दो पदाधिकारियों के चक्कर में चौपट हुई जिला शिक्षा कार्यालय की व्यवस्था

छपरा: जिले में दो शिक्षा पदाधिकारी के आपसी द्वंद का मामला थमने का नाम नहीं ले रहा है. एक पदाधिकारी के आदेश को जहाँ दूसरा पदाधिकारी रद्द कर रहा है. वही विभागीय लेटर में भी खीचा तानी दिख रही है.

कार्यालय का आलम यह है कि आने वाले स्वतंत्रता दिवस में झंडोतोलन का समय भी दो बार निर्धारित किया गया है. दो पदाधिकारियों के आपसी द्वंद का हर्जाना शिक्षकों को भुगतना पड़ रहा है. वही विभागीय काम भी खरगोश की रफ़्तार में आगे बढ़ रहे है. हालाकि दोनों पदाधिकारी अपने अपने कार्यालय से काम को अंजाम देने की बात कह रहे है. बावजूद इसके शिक्षकों का काम धरा का धरा रह रहा है.

न्यायालय से क्लीन चीट मिलने के बाद डीईओ चन्द्र किशोर यादव जिला शिक्षा कार्यालय में अपना काम कर रहे है. वही इनके द्वारा निर्गत किये जा रहे विभागीय पत्रों को प्रभारी डीइओ द्वारा रद्द कर दिया जा रहा है. जिसके कारण परेशानी कार्यालय कर्मियों को हो रही है.

प्रभारी जिला शिक्षा पदाधिकारी अवधेश बिहारी माध्यमिक शिक्षा के डीपीओ होने के नाते आरएमएसए कार्यालय कक्ष में बैठ रहे है. वही से वह प्रभारी डीईओ का काम कर रहे है. सूत्रों की माने तो चन्द्र किशोर यादव ने वित्तीय मामले को लेकर कोषागार के आलावे बैंक में खाते से निकासी पर रोक लगाने सम्बन्धी पत्र भी निर्गत कर दिया है.
विभाग के कर्मचारी इसे कुर्सी का युद्ध बता रहे रहे जिसमे निर्दोष शिक्षक और विभागीय कर्मचारी प्रतिदिन पिस रहे है.

बताते चले कि विगत बोर्ड की परीक्षा में शहर के सारण एकेडमी से प्रश्न पत्र लीक मामले में पूर्व के डीईओ चन्द्र किशोर यादव को शिक्षा विभाग द्वारा निलंबित कर दिया गया था. जिसके बाद वरीय डीपीओ अवधेश बिहारी को जिला शिक्षा पदाधिकारी का प्रभारी बनाया गया था. निलंबन को लेकर चन्द्र किशोर यादव ने न्यायालय में याचिका दायर की गयी थी. जहाँ से उन्हें निलंबन मुक्त कर दिया गया. इसी आधार पर उन्होंने पुनः सारण के जिला शिक्षा पदाधिकारी के रूप में कम करना शुरू किया है.

0Shares
Prev 1 of 250 Next
Prev 1 of 250 Next