दिल्ली विश्वविद्यालय ने दाखिला के लिए लॉन्च किया सीएसएएस-2022 पोर्टल

दिल्ली विश्वविद्यालय ने दाखिला के लिए लॉन्च किया सीएसएएस-2022 पोर्टल

-67 कॉलेजों के 79 यूजी प्रोग्रामों में होंगे दाखिले, तीन चरणों में चलेगी दाखिला प्रक्रिया

नई दिल्ली: दिल्ली विश्वविद्यालय ने सोमवार को शैक्षणिक वर्ष 2022-23 के लिए अपने स्नातक कार्यक्रमों में सीयूईटी परीक्षा के माध्यम से प्रवेश के लिए पोर्टल लॉन्च किया है। पोर्टल के तहत पंजीकरण प्रक्रिया शुरू होती है, छात्र एक फॉर्म भरकर डीयू और उससे संबद्ध कॉलेजों में प्रवेश लेने के लिए आवेदन कर सकते हैं। छात्रों को फॉर्म के लिए 250 रुपये का शुल्क देना होगा। आरक्षित वर्ग के उम्मीदवारों के लिए आवेदन शुल्क 100 रुपये है। डीयू ने आरक्षित वर्ग के छात्रों के लिए 30 फीसदी अतिरिक्त सीटें भी आरक्षित की हैं।

डीयू कुलपति प्रो. योगेश सिंह ने सीएसएएस-2022 (एलोकेशन-कम-एड्मिशन पोलिसिस) पोर्टल को लॉन्च करते हुए बताया कि इस वर्ष 67 कॉलेजों, विभागों और केंद्रों में 79 यूजी प्रोग्रामों में दाखिले दिये जाने हैं जिनमें बीए प्रोग्रामों के लिए 206 संयोजन (कंबिनेशन) शामिल हैं। यह प्रक्रिया इसी पोर्टल के माध्यम से ही सम्पूर्ण होगी।

कुलपति ने पत्रकारों से बातचीत में बताया कि देश भर से करीब 6 लाख 14 हजार विद्यार्थियों ने डीयू को अपनी प्राथमिकताओं में शामिल किया है। उन्होंने बताया कि सीएसएएस-2022 तीन चरणों में आयोजित किया जाएगा जिसमें पहले चरण में दिल्ली विश्वविद्यालय में आवेदन करना होगा, दूसरे चरण में वरीयता भरना और तीसरे चरण में सीट आवंटन-सह-प्रवेश होगा।

कुलपति ने बताया कि रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया आज से शुरू हो गई है। उन्होंने बताया कि हमारा प्रयास रहेगा कि स्पॉट राउंड से पहले दो अलाटमेंट राउंड रखे जाएं ताकि किसी भी इच्छुक विद्यार्थी को दिक्कत न रहे। उन्होंने आवेदकों से आह्वान किया वे अधिक से अधिक विकल्प भरें ताकि अपनी पसंद के कालेज और विषयों के अलाटमेंट में उन्हें कोई दिक्कत न आए। उन्होंने कहा कि हमने पॉलिसी को इस प्रकार से बनाया है कि परेशानियों को कम से कम किया जा सके, इसके बावजूद भी हमने मिड एंट्री दाखिलों का भी प्रावधान किया ताकि किसी कारण वश जो आवेदक छूट गए हैं उनको भी मौका मिल सके।

कुलपति ने बताया कि ईसीए और स्पोर्ट्स कोटे के विद्यार्थियों के लिए ट्रायल 10 अक्टूबर के बाद होंगे और विद्यार्थियों की कक्षाएं संभवत: एक नवंबर से शुरू कर दी जाएंगी। एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने बताया कि रिजर्व कैटेगरी के दाखिलों को लेकर विश्वविद्यालय प्रशासन पूरी तरह से संजीदा है इसीलिए रिजर्व कैटेगरी के लिए पहले राउंड में ही 30 प्रतिशत अतिरिक्त दाखिलों का प्रावधान रखा गया है। इस अवसर पर उनके साथ दिल्ली विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ विकास गुप्ता, डीन एडमिशन प्रो. हनीत गांधी और पीआरओ अनूप लाठर मुख्य रूप से उपस्थित रहे।

इस अवसर पर दिल्ली विश्वविद्यालय की डीन एडमिशन प्रो. हनीत गांधी ने दाखिला प्रक्रिया की विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने बताया पहले चरण के तहत सीएसएएस-2022 के लिए एससी, एसटी और पीडबल्यूबीडी वर्ग के आवेदकों के लिए 100 रुपये और यूआर, ओबीसी-एनसीएल, ईडब्ल्यूएस वर्ग के लिए 250 रुपये का एकमुश्त आवेदन शुल्क देना होगा जोकि नॉन-रिफ़ंडेबल होगा। दिल्ली विश्वविद्यालय में प्रवेश लेने के इच्छुक उम्मीदवारों को सीएसएएस-2022 आवेदन पत्र के माध्यम से ही आवेदन करना होगा। सीएसएएस-2022 में आवेदन करने के लिए सीयूईटी (यूजी)-2022 की आवेदन संख्या अनिवार्य होगी। आवेदक द्वारा सीयूईटी (यूजी)-2022 के दौरान प्रस्तुत किए गए व्यक्तिगत विवरण जैसे नाम, फोटो और हस्ताक्षर आदि सीएसएएस-2022 में स्वतः एकीकृत हो जाएंगे।

उन्होंने कहा कि उम्मीदवार अपने व्यक्तिगत विवरण, श्रेणियां, उप-श्रेणियां, जाति जमा करने में सावधानी बरतें क्योंकि एक बार सबमिट होने के बाद ये विवरण बदले नहीं जा सकेंगे। दिल्ली विश्वविद्यालय से सभी संचार केवल सीएसएएस-2022 आवेदन पत्र में भरी गई ईमेल आईडी पर ही किए जाएंगे। उम्मीदवारों को उन सभी विषयों के अंक भी सबमिट करने होंगे जिनमें उन्होंने बारहवीं कक्षा उत्तीर्ण की है। उम्मीदवार बारहवीं कक्षा के अंक भरते समय अत्यधिक सावधानी बरतें क्योंकि यदि मेरिट टाई हो जाती है तो ये अंक उसको तोड़ने का आधार बनेंगे।

प्रो. गांधी ने बताया कि सीएसएएस का दूसरा चरण सीयूईटी (यूजी)-2022 के परिणाम घोषित होने के बाद शुरू होगा। इस चरण में, उम्मीदवारों को अपने प्रोग्राम और कॉलेज संयोजन का चयन करना होगा और अपनी वरीयताएं भरनी होंगी। प्रोग्राम और कॉलेज संयोजन के चयन का क्रम भी सीटों के आवंटन के लिए वरीयता क्रम का निर्धारण करेगा। इसलिए, उम्मीदवार को वरीयता क्रम में प्रोग्राम और कॉलेज संयोजनों की वरीयता को ध्यान से प्राथमिकता देनी चाहिए। अंत में, उम्मीदवारों को वरीयता भरने के चरण के अंतिम दिन पर या उससे पहले ‘सबमिट’ पर क्लिक करके प्रोग्राम और कॉलेज संयोजनों के लिए वरीयता क्रम की पुष्टि करनी होगी। समय सीमा समाप्त होने के बाद प्रोग्राम और कॉलेज संयोजन वरीयता सूची के बदलाव की अनुमति नहीं दी जाएगी।

एक बार किसी विशेष राउंड में सीट आवंटित हो जाने के बाद, उम्मीदवार को दिए गए आवंटन राउंड के लिए निर्दिष्ट अंतिम तिथि व समय से पहले उसे आवंटित सीट को ‘स्वीकार’ करना होगा। किसी विशेष आवंटित सीट की स्वीकृति का प्रावधान केवल उसी दौर के लिए मान्य होगा जिसमें उम्मीदवार को सीट आवंटित की गई थी। आवंटित सीट के लिए गैर-स्वीकृति के रूप में कार्रवाई नहीं की जाएगी। इसे अनंतिम रूप से आवंटित सीट में डिकलाइन के रूप में माना जाएगा और उम्मीदवार अब सीएसएएस-2022 के बाद के दौर में भाग लेने में सक्षम नहीं होगा। यदि किसी उम्मीदवार को किसी विशेष राउंड में कई सीटों की पेशकश की जाती है, तो उसे केवल एक सीट को ही स्वीकार करना चाहिए। एक बार जब उम्मीदवार अनंतिम रूप से आवंटित सीट को “स्वीकार” कर लेता है, तो संबंधित कॉलेज उम्मीदवार द्वारा अपलोड की गई पात्रता और दस्तावेजों की जांच करेगा। सत्यापन के बाद, कॉलेज उम्मीदवार की अनंतिम रूप से आवंटित सीट को ‘स्वीकृति’ या ‘अस्वीकार’ करेगा। एक बार कॉलेज की मंजूरी के बाद, उम्मीदवार को ‘प्रवेश शुल्क’ का भुगतान करना होगा। प्रवेश शुल्क का सफल प्रेषण उम्मीदवार के आवंटित कॉलेज और प्रोग्राम में अनंतिम प्रवेश की पुष्टि करेगा।

अस्वीकृति, रद्दीकरण और नाम वापसी के कारण खाली हुई सीटों की उपलब्धता के आधार पर, विश्वविद्यालय कई आवंटन राउंड घोषित कर सकता है। प्रत्येक आवंटन राउंड से पहले विश्वविद्यालय अपनी दाखिला वेबसाइट (admission.uod.ac.in) पर रिक्त सीटों को प्रदर्शित करेगा। सीएसएएस -2022 के लिए आवेदन करने वाले सभी उम्मीदवार सभी आवंटन राउंड के लिए पात्र होंगे, सिवाय उन आवेदकों के जिनकी आवंटित सीट/ दाखिला किसी भी कारण से रद्द कर दिया गया हो। जो उम्मीदवार “अपग्रेड” का विकल्प चुनते हैं, उन पर सीटों की उपलब्धता के अनुसार बाद के सीएसएएस-2022 आवंटन राउंड में विचार किया जाएगा। विश्वविद्यालय ने ऐसा प्रावधान भी किया है जिसके माध्यम से आवेदक अनुमोदन के दौरान कॉलेज द्वारा उठाए गए किसी भी प्रश्न का उत्तर दे सकते हैं।

अपग्रेड किए गए उम्मीदवार को अपग्रेड की गई सीट को ‘स्वीकार’ करना होगा और अपग्रेड आवंटित सीट पर प्रवेश प्रक्रिया पूरी करनी होगी। यदि कोई उम्मीदवार अपग्रेड की गई सीट पर कोई गतिविधि नहीं करता है, तो इसे डिफ़ॉल्ट रूप से रद्द माना जाएगा और उम्मीदवार सीएसएएस-2022 से बाहर हो जाएगा। यदि कोई उम्मीदवार अपग्रेड नहीं होता है, तो उसकी पिछली सीट पर प्रवेश बरकरार रखा जाएगा। जिस उम्मीदवार ने आवंटित सीट पर दाखिला ले लिया हो और इसे जारी रखना चाहता है, उसे अपने डैशबोर्ड के माध्यम से ‘फ्रीज’ को स्विच करना चाहिए। ‘फ्रीज’ का चयन करने के पश्चात उम्मीदवार को “अपग्रेडेशन” का विकल्प चुनने की अनुमति नहीं मिलेगी।

टाई की स्थिति में उसे तोड़ने के लिए निम्नलिखित नियमों का प्रावधान भी किया गया है। इनके तहत बारहवीं कक्षा के सर्वश्रेष्ठ 3 विषयों में कुल अंकों का उच्च प्रतिशत; बारहवीं कक्षा के सर्वश्रेष्ठ 4 विषयों में कुल अंकों का उच्च प्रतिशत; बारहवीं कक्षा के सर्वश्रेष्ठ 5 विषयों में कुल अंकों का उच्च प्रतिशत व उम्मीदवार की आयु को शामिल किया गया है। प्रो. हरनीत गांधी ने बताया कि नियमित सीएसएएस-2022 राउंड के पूरा होने के बाद, यदि सीटें खाली रहती हैं, तो विश्वविद्याय प्रवेश के स्पॉट राउंड की घोषणा कर सकता है।

मिड-एंट्री का भी है प्रावधान
निर्धारित समय के दौरान किन्ही कारणों से सीएसएएस-2022 के लिए आवेदन करने में विफल रहे उम्मीदवारों के लिए दिल्ली विश्वविद्यालय मिड-एंट्री का प्रावधान भी कर रहा है। ऐसे उम्मीदवार सीएसएएस-2022 में मिड-एंट्री शुल्क के रूप में 1000 रुपये का भुगतान करके भाग ले सकते हैं। हालांकि, मिड एंट्री एडमिशन के लिए केवल तभी विचार किया जा सकता है जब उन सभी उम्मीदवारों के सीट आवंटन हो चुके हों जिन्होंने पहले आवेदन किया था और न्यूनतम घोषित स्कोर से अधिक योग्यता अंक आवंटित किए गए थे। (बी.ए. (बी.ए.) ऑनर्स) म्यूजिक, बीएससी फिजिकल एजुकेशन, हेल्थ एजुकेशन एंड स्पोर्ट्स), ईसीए और स्पोर्ट्स सुपरन्यूमेरी कोटा जैसे प्रदर्शन-आधारित प्रोग्रामों के लिए मिड एंट्री प्रवेश की अनुमति नहीं दी जाएगी।

प्रदर्शन-आधारित प्रोग्रामों में सीट आवंटन
प्रदर्शन-आधारित प्रोग्रामों में सीट आवंटन के लिए 50 प्रतिशत सीयूईटी स्कोर से और 50 प्रतिशत वेटेज प्रफ़ोर्मेंस टेस्ट स्कोर से दिया जाएगा। ईसीए और स्पोर्ट्स सुपरन्यूमेरी कोटा के तहत प्रवेश के लिए 25 प्रतिशत सीयूईटी स्कोर और 75 प्रतिशत वेटेज सर्टिफिकेट और ट्रायल को दिया जाएगा। ईसीए और खेल दोनों के लिए 1 अप्रैल 2017 से 30 जून 2022 की समयावधि के बीच जारी किए गए प्रमाणपत्रों पर ही विचार किया जाएगा। ईसीए और स्पोर्ट्स सुपरन्यूमेरी कोटा में प्रवेश के लिए सीट आवंटन का आधार संयुक्त ईसीए मेरिट (सीईएम) और संयुक्त स्पोर्ट्स मेरिट (सीएसएम) के अनुसार होगा।

पहले राउंड में होंगे अतिरिक्त एलोकेशन
दिल्ली विश्वविद्यालय ने यह भी निर्णय लिया है कि सीट आवंटन के पहले दौर में प्रत्येक कॉलेज के प्रत्येक प्रोग्राम में यूआर, ओबीसी-एनसीएल, ईडब्ल्यूएस श्रेणियों में 20 प्रतिशत और एससी, एसटी, पीडब्ल्यूबीडी श्रेणियों में 30 प्रतिशत अतिरिक्त एलोकेशन (आवंटन) किया जाएगा। डीन एडमिशन श्रीमती डॉ. हनीत गांधी ने आवेदकों को सलाह दी कि वे प्रवेश से संबंधित सभी अपडेट, शेड्यूल और दिशानिर्देशों के लिए नियमित रूप से विश्वविद्यालय की प्रवेश वेबसाइट और उनके डैशबोर्ड को देखते रहें।

उन्होंने कहा कि आवेदक सतर्क रहें और केवल दिल्ली विश्वविद्यालय की आधिकारिक वेबसाइट (www.admission.uod.ac.in) पर प्रकाशित जानकारी पर ही भरोसा करें। सभी प्रामाणिक सूचनाओं, घोषणाओं और कार्यक्रम के लिए उम्मीदवारों को केवल दिल्ली विश्वविद्यालय की आधिकारिक वेबसाइट और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर जाना चाहिए। ध्यान रखें कि विश्वविद्यालय केवल “du.ac.in” के साथ समाप्त होने वाले डोमैन की ईमेल आईडी के माध्यम से मेल करता है।

0Shares
[sharethis-inline-buttons]

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें