इतिहास के पन्नों में आज (18 जून) का दिन | Today in History

इतिहास के पन्नों में आज (18 जून) का दिन | Today in History

इतिहास ने अपने अन्दर कई घटनाओं को समेट कर रखा है. इस सेक्शन के माध्यम से हम आपको इतिहास के इन पन्नों में छिपे घटनाओं से रूबरू कराते है. आइये आज (16 जून) के इतिहास को जानते है.

जयंती

1. हिंदी के प्रथम तिलिस्मी लेखक बाबू देवकीनन्दन खत्री का जन्म 18 जून 1861को बिहार के मुजफ्फरपुर में हुआ था. उन्होने चंद्रकांता, चंद्रकांता संतति, काजर की कोठरी, नरेंद्र-मोहिनी, कुसुम कुमारी, वीरेंद्र वीर, गुप्त गोदना, कटोरा भर, भूतनाथ जैसी रचनाएं की. ‘भूतनाथ’ को उनके पुत्र दुर्गा प्रसाद खत्री ने पूरा किया. हिंदी भाषा के प्रचार प्रसार में उनके उपन्यास चंद्रकांता का बहुत बड़ा योगदान रहा है. इस उपन्यास ने सबका मन मोह लिया. बाबू देवकीनंदन खत्री ने ‘तिलिस्म’, ‘ऐय्यार’ और ‘ऐय्यारी’ जैसे शब्दों को हिंदीभाषियों के बीच लोकप्रिय बनाया.

2. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पंचम सर संघचालक कुप्पाहाली सीतारमय्या सुदर्शन का जन्म 18 जून 1931 को हुआ था.

महत्वपूर्ण घटनाएँ 

1576 – महाराणा प्रताप और मुगल शासक अकबर के बीच हल्दीघाटी का युद्ध शुरू हुआ. 1946 – डॉ़ राममनोहर लोहिया की अगुवाई में गोवा में पुर्तगाल के शासन से आजादी के लिए पहला सत्याग्रह आंदाेलन शुरू हुआ.

1980 – शकुंतला देवी ने दो 13 डिजिट के नंबरों का गुणा किया और 28 सेकंड्स में सही उत्तर दे दिया.

1987 – एम. एस. स्वामीनाथन को पहला विश्व खाद्य पुरस्कार मिला.

2003 – गूगल ने इंटरनेट प्रोग्राम एडसेंस पेश किया.

Prev 1 of 143 Next
Prev 1 of 143 Next

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें