गणतंत्र दिवस: छपरा के राजेंद्र स्टेडियम में आयुक्त ने फहराया राष्ट्रध्वज

गणतंत्र दिवस: छपरा के राजेंद्र स्टेडियम में आयुक्त ने फहराया राष्ट्रध्वज

Chhapra: गणतंत्र दिवस के अवसर पर छपरा के राजेंद्र स्टेडियम में मुख्य कार्यक्रम का आयोजन किया गया. सारण प्रमंडल की आयुक्त पूनम ने यहां राष्ट्रध्वज फहराया. इसके बाद उन्होंने पर परेड का निरिक्षण किया और सलामी ली. 

इस अवसर पर छपरा के विधायक डॉ सीएन गुप्ता, सारण प्रक्षेत्र के पुलिस उप महानिरीक्षक मनु महाराज, जिलाधिकारी निलेश रामचंद्र देवरे, पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार, एडीएम, एसडीओ, जिला सूचना जन संपर्क पदाधिकारी ज्ञानेश्वर प्रकाश समेत पदाधिकारी उपस्थित थे.

अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि सरकार की योजनाओं को सारण जिले में और पूरे प्रमंडल में लागू करने को लेकर सभी जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं. 

आयुक्त के संबोधन

72 वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर आयोजित इस समारोह में उपस्थित सम्मानित स्वतंत्रता सेनानियों, जनप्रतिनिधियों ने न्याययिक एवं प्रशासनिक पदाधिकारी गण कर्मचारी गण प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के प्रतिनिधिगण एवं समस्त सारण वासियों। आज हमारा देश 72 वा गणतंत्र दिवस मना रहा है। आज ही के दिन 26 जनवरी 1950 को देश में संविधान लागू हुआ और देश गणतंत्र बना। गणतंत्र दिवस के शुभ अवसर पर आयोजित इस समारोह में आप सभी का हार्दिक अभिनंदन करती हूं। इस अवसर पर मैं संविधानसभा के महापुरुषों के योगदान का स्मरण करती हूं जिनके द्वारा निर्मित संविधान ने हमारी लोकतांत्रिक व्यवस्थाओं को निरंतर मजबूत बनाया है और इस दिशा में हम लगातार आगे बढ़ रहे हैं।

सारण जिला वीर सपूतों की धरती है। यह धरती डा राजेंद्र प्रसाद ,लोकनायक जयप्रकाश नारायण, शहीद राजेंद्र सिंह, दरोगा प्रसाद राय, मौलाना मजहरूल हक, भोजपुरी के शेक्सपियर भिखारी ठाकुर एवं महेंद्र मिश्र की धरती है। इस धरती के अनेक वीरों ने अपनी कुर्बानी देकर राज्य एवं देश की सेवा की है और सारण जिले का नाम गौरवान्वित किया है। ऐसे वीर सपूतों को मैं भी हार्दिक नमन करती हूं।
आज हम सब कोरोना संक्रमण के दौर से गुजर रहे हैं। ना केवल हमारा राज्य व देश बल्कि पूरा विश्व कोरोना के कहर से परेशान रहा है। कोरोना से उत्पन्न वैश्विक संकट की स्थिति में भी बिहार सरकार के निर्देशन में जिला प्रशासन के द्वारा मजबूती से कार्य किया गया है। सारण जिला में जब कोरोनावायरस चरम पर था उसी समय बाद का विकराल रूप भी सामने आया। जिले के 10 प्रखंडों में से सात लाख से अधिक लोग बाढ़ से प्रभावित हुए परंतु इस प्रतिकूल परिस्थिति में भी जिला प्रशासन के लोगों के बचाव एवं उनके राहत का कार्य युद्ध स्तर पर चलाया गया। बाढ़ के समय 421 कम्युनिटी किचेन चलाकर लगभग दो लाख 76 हजार व्यक्तियों को भोजन उपलब्ध कराया गया। बाढ़ से राहत के लिए कुल एक लाख 88 हजार 239 प्रभावित परिवारों को छह हजार रुपये प्रति परिवार की दर से एक सौ 12 करोड़ 94 लाख 34 हजार रुपये की राशि उनके खाते में हस्तांतरित कराई गई।

बिहार विधानसभा का निर्वाचन भी जिला प्रशासन के लिए किसी चुनौती से कम नहीं था। इसके बावजूद सारण जिला में कोविड प्रोटोकॉल के तहत स्वतंत्र एवं निष्पक्ष चुनाव संपन्न कराया गया। इस चुनाव का सबसे उल्लेखनीय पक्ष आ रहा कि अभी तक जिले में जितने भी चुनाव हुए हैं उनमें मत प्रतिशत के हिसाब से इस चुनाव में सर्वाधिक लोगों ने मतदान की प्रक्रिया में अपनी भागीदारी निभाई, लगभग 56 प्रतिशत लोगों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया।

कोविड-19 के दौरान जिला में लगभग 67 हजार श्रमिक बाहर से आए जिन्हें क्वारेटिंन केंद्रों में क्वारेटिंन करते करते हुए डिग्निटी कीट एवं भोजन उपलब्ध कराया गया जिस पर लगभग 20 करोड़ की राशि का व्यय हुआ। मुख्यमंत्री विशेष सहायता योजना के तहत एक लाख 40 हजार 949 राज्य से बाहर रह रहे श्रमिकों के खाते में एक हजार रुपये प्रति व्यक्ति की दर से कुल 14 करोड नौ लाख 49 हजार रुपये का भुगतान किया गया।

जिला प्रशासन के द्वारा बाहर से आए श्रमिक भाइयों को रोजगार से जोड़ने का कार्य किया गया है। लॉकडाउन की स्थिति के बावजूद ग्रामीण क्षेत्रों में सोशल डिस्टेंसिंग का अनुपालन कराते हुए निर्माण कार्य को शुरू कराया गया। जिला औद्योगिक नवप्रवर्तन योजना के अंतर्गत जिले में 5 इकाइयों की स्थापना की गई है। जिसमें परसा में रेडीमेड वस्त्र निर्माण कलस्टर, बनियापुर में पेभर ब्लॉक निर्माण क्लस्टर, इसुआपुर के फेनहारा में जूता चप्पल निर्माण क्लस्टर, नगरा के खोरमपुर में डलिया टोकड़ी निर्माण तथा मांझी में फर्नीचर निर्माण क्लस्टर स्थापित किया गया है जहां पर बाहर से श्रमिक भाइयों ने अपना उद्यम प्रारंभ किया है।

जिला प्रशासन द्वारा विकास के कार्यों को गति दी गई है। सात निश्चय की योजनाओं में मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल योजना की लगभग शत-प्रतिशत उपलब्धि प्राप्त कर ली गई है। कुल 4577 वार्डों में कुल 4562 वार्ड वार्डों में यह कार्य पूर्ण कराया जा चुका है मुख्यमंत्री ग्रामीण गली- नाली पक्कीकरण निश्चय योजना का शत-प्रतिशत लक्ष्य प्राप्त कर लिया गया है। जिले के सभी 4577 वार्डों में यह कार्य पूर्ण करा लिया गया है।
एक अप्रैल से 31 दिसंबर 2020 तक सारण जिला में मनरेगा योजना के अंतर्गत 62,77,034 मानव दिवस सृजित किया गया है। इस अवधि में 188 करोड़ 23 लाख एक हजार रुपये का व्यय हुआ है। मनरेगा योजना अंतर्गत 1,09,854 कार्य शुरू किए गए थे जिनमें 65,146 कार्य पूर्ण हो चुके हैं। वित्तीय वर्ष 2020- 21 में प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण के तहत जिले को 11,606 का लक्ष्य प्राप्त हुआ है। वित्तीय वर्ष 2019 में प्रधानमंत्री आवास योजना( ग्रामीण) के तहत जिले को 32,954 का लक्ष्य प्राप्त हुआ था जिसमें 30,746 लाभुकों के खाते में प्रथम किस्त की राशि , 23,335 लाभुकों के खाते में द्वितीय किस्त एवं 15,042 लाभुकों के खाते में तृतीय किस्त की राशि भेजते हुए 14,486 लाभुकों का आवास पूर्ण करा दिया गया है। लोहिया स्वच्छ बिहार अभियान के तहत जिले में 4,34,896 लाभार्थियों ने स्वयं से अपने शौचालयों का उपयोग करते हुए इस योजना को सफल बनाया है। इसके अतिरिक्त जिला में 186 सामुदायिक स्वच्छता परिसरों का निर्माण कार्य पूर्ण कराकर हस्तांतरित किया गया है।

पर्यावरण के बदलते परिवेश से उत्पन्न चुनौतियों का सामना करने के लिए सरकार की महत्वकांक्षी योजना जल जीवन हरियाली के अंतर्गत सारण जिले में 5,40,675 पौधारोपण कराया गया है। जिला में 335 पोखरों तथा 208 कुओं को अतिक्रमण मुक्त तथा 477 नये तालाबों का निर्माण कराया गया है। जैविक खेती को प्रोत्साहन देने के लिए तीन हजाए एकड़ में जैविक खेती तथा 29 एकड़ क्षेत्र में ड्रीप सिंचाई की व्यवस्था कराई गई है।

जिला में राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना के तहत चार लाख 62 हजार 493 परिवार के 25 लाख पांच हजार 837 व्यक्तियों को प्रतिमाह गेहूं और चावल का वितरण किया जा रहा है।आरटीपीएस के माध्यम से प्राप्त आवेदनों में स्वीकृत किए गए 88, 573 आवेदनों के विरुद्ध प्रतिशत नया राशन कार्ड निर्गत किया जा चुका है। सामाजिक सुरक्षा के अंतर्गत जिला में कुल दो लाख 60 हजार छह पेंशनधारियों को पेंशन का भुगतान डीबीटी के तहत कर दिया गया है। खरीफ विपणन मौसम 2020-21 के अंतर्गत जिला में कुल 170 पैक्स और आठ व्यपर मंडल द्वारा तीन हजार चार सौ 11 किसानों से 21933 एमटी धान की अधिप्राप्ति की गई है, जिसके तहत 23 सौ 12 किसानों को 29 करोड़ 72 लाख 61 हजार733 रुपये की राशि का भुगतान किया गया है। बिहार लोक शिकायत निवारण अधिकार अधिनियम के तहत प्राप्त 19896 आवेदनों के विरुद्ध 18313 परिवादों का निष्पादन किया गया है।

जिला में कोविड-19 जांच का दायरा बढ़ाया गया है। अब तक सात लाख से ज्यादा व्यक्तियों को को भी टेस्ट कराया गया है, जिसमें 6456 संक्रमित व्यक्तियों को आइसोलेट करते हुए उनका उपचार किया गया तथा कोरोना संक्रमण की रोकथाम हेतु उचित कदम उठाए गए हैं। जिला में कोविड-19 के लिए 16 जनवरी से प्रारंभ टीकाकरण का कार्य चलाया जा रहा है। सरकार के दिशा निर्देश के अनुरूप वाले स्वास्थ्य कर्मियों को टीका लगाया जा रहा है। जिले में कुल नौ स्थानों पर टीकाकरण का कार्य प्रारंभ किया गया है, जिसे बढ़ाकर और 11 कर दिया गया है। अंत में मैं गणतंत्र दिवस के इस पुनीत अवसर पर आप सभी को पुनः हार्दिक बधाई देती हूं। आइए हम सब मिलकर निजी हितों से ऊपर उठकर लोक कामना के साथ एक भारत श्रेष्ठ भारत का संकल्प लें और उसे साकार करें।

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें