छपरा जं-छपरा कचहरी तीसरी विद्युतीकृत लाइन एवं छपरा-माँझी दोहरीकरण का पीएम ने किया लोकार्पण

छपरा जं-छपरा कचहरी तीसरी विद्युतीकृत लाइन एवं छपरा-माँझी दोहरीकरण का पीएम ने किया लोकार्पण

Chhapra: सारण जिले में पड़ने वाले छपरा जं, छपरा कचहरी, मसरख एवं चैनवां रेलवे स्टेशनों पर एक स्टेशन एक उत्पाद का लोकार्पण एवं छपरा जं-छपरा कचहरी तीसरी विद्युतीकृत लाइन एवं छपरा-माँझी दोहरीकरण का लोकार्पण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार 12 मार्च,2024 मंगलवार को सुबह नौ वीडियो कांफ्रेंसिग के माध्यम से किया।

इस अवसर पर सांसद (महाराजगंज) जनार्दन सिंह सिग्रीवाल की अध्यक्षता में आयोजित एक समारोह में विधायक (छपरा शहर) सी एन गुप्ता, नगर निगम महापौर लक्ष्मीनारायण गुप्ता समेत छपरा जं, छपरा कचहरी एवं चैनवां रेलवे स्टेशनों पर क्षेत्रीय जन प्रतिनिधि गण, गणमान्य नागरिक एवं स्थानीय जनता ने उपस्थित होकर अपनी भागीदारी दर्ज करायी।

ज्ञातव्य हो एक उत्पाद योजना के अंतर्गत छपरा जं, छपरा कचहरी एवं चैनवां रेलवे स्टेशनों पर फ़ूड प्रोडक्ट, सत्तू एवं मौसमी फलों का स्टॉल लगाया गया है जिससे यात्रियों को स्टेशन पर पोषक अल्प आहार उपलब्ध हो रहा है।

इसके साथ ही छपरा जं-छपरा कचहरी तीसरी विद्युतीकृत लाइन बन जाने से परिचालनिक सुगमता मिलने के कारण अब यात्री गाड़ियों को प्लेटफार्म की प्रतीक्षा में आउटर पर नहीं रुकना पड़ रहा है जिससे यात्रियों को समय की बचत कर साथ बहुत सुविधा हो रही है

रेल मंत्रालय ने भारत सरकार के ‘वोकल फॉर लोकल‘ दृष्टिकोण को बढ़ावा देने, स्थानीय/स्वदेशी उत्पादों के लिए बाजार प्रदान करने और हाशिए पर रहने वाले समाज के वर्गों के लिए अतिरिक्त आय के अवसर पैदा करने के उद्देश्य से ‘वन स्टेशन वन प्रोडक्ट‘ (ओएसओपी) योजना शुरू की है।

इस योजना का उद्देश्य देश भर के रेलवे स्टेशनों पर बिक्री आउटलेट के प्रावधान के माध्यम से स्थानीय कारीगरों, कुम्हारों, बुनकरों/हथकरघा बुनकरों, शिल्पकारों आदि को आजीविका के बेहतर अवसर प्रदान करना है। योजना का उद्देश्य रेलवे स्टेशनों पर बिक्री आउटलेट के प्रावधान के माध्यम से स्थानीय कारीगरों, कुम्हारों, बुनकरों/हथकरघा बुनकरों, शिल्पकारों आदि को आजीविका के बेहतर अवसर प्रदान करना है।

इसी क्रम में ‘एक स्टेशन एक उत्पाद‘ आउटलेट- भारतीय रेल के स्टेशनों पर स्थापित रू. 160 करोड़ की लागत से 1,500 से अधिक एक स्टेशन एक उत्पाद के स्टॉल का लोकार्पण किया गया । इसमें पूर्वोत्तर रेलवे के विभिन्न स्टेशनों पर स्थापित 54 स्टॉल सम्मिलित हैं। इस अवसर पर विभिन्न स्टेशनों 14 श्रेणियों के 6,00,000 विश्वकर्मा प्रधानमंत्री महोदय के कार्यक्रम से सीधे जुड़ें थे ।

ज्ञातव्य हो की प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 12 मार्च, 2024 को रू 85,000 करोड़ से अधिक की लागत से विभिन्न रेल परियाजनाओं (लगभग 6,000) का शिलान्यास/उद्घाटन/लोकार्पण किया तथा 10 नई वंदे भारत एवं 04 वंदे भारत एक्सप्रेस के मार्ग विस्तार तथा अन्य ट्रेनों का शुभारम्भ करेंगे। इसके लिये वीडियो काँन्फ्रेंसिग के माध्यम से 764 स्थल जुड़े थे जहाँ पर समारोह आयोजित किये गये । प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा भारतीय रेल के स्टेशनों पर ‘एक स्टेशन एक उत्पाद‘ के 1,500 से अधिक स्टॉल, 50 स्टेशनों पर प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि केंद्र, 51 गति शक्ति मल्टीमाडल कार्गो टर्मिनल, रेलवे गुड्स शेडों, 16 रेलवे कारखानों/लोको शेडों/पिट लाइन/कोचिंग डिपो, 975 स्थलों पर स्टेशन भवनों एवं सर्विस भवनों पर सोलर प्लांट, 35 रेल कोच रेस्टोरेंट, विभिन्न रेल खंडों (2,135 किमी.) के विद्युतीकरण, 100 खंडों पर 1500 किमी. के दोहरीकरण/तीसरी लाइन/आमान परिवर्तन, इस्टर्न डडीकेटेड फ्रेट कोरिडोर के न्यू खुर्जा-सहनेवाल (401 किमी.) खंड, वेस्टर्न डडीकेटेड फ्रेट कोरिडोर के न्यू मकरपुरा-न्यू घोलवड (244 किमी.) खंड, वेस्टर्न डडीकेटेड फ्रेट कोरिडोर के आपरेशन कंट्रोल सेंटर, 2,646 स्टेशनों के डिजिटल कंट्रोलिंग, 80 खंडों में 1045 किमी. के आटोमेटिक सिंगनलिंग खंडों का लोकार्पण तथा 19 रेलवे कारखानों/लोको शेडों/पिट लाइनों/कोचिंग डिपो, फल्टन-बारामती नई लाइन एवं इलेक्ट्रिक ट्रैक्शन सिस्टम के उन्नयन कार्य का शिलान्यास किया गया।

0Shares
A valid URL was not provided.