बैन के बाद छपरा में 2091 दुकानों में छापा, अब तक 1.5 क्विंटल प्लास्टिक कैरी बैग जब्त

बैन के बाद छपरा में 2091 दुकानों में छापा, अब तक 1.5 क्विंटल प्लास्टिक कैरी बैग जब्त

Chhapra: बिहार में शराबबंदी की तरह प्लास्टिक कैरी बैग पर भी पूरी तरह प्रतिबंध लग गया है. साल भर पहले दिसंबर में ही राज्य सरकार ने सूबे में प्लास्टिक के कैरी बैग के इस्तेमाल, खरीद- बिक्री भंडारण आदि पर रोक लगा दी थी. साल भर बीतने के बाद भी प्लास्टिक के इस्तेमाल पर पूरी तरह रोक नहीं लग सकी है. छपरा शहरी क्षेत्र में भी प्लास्टिक कैरी बैग का धड़ल्ले से इस्तेमाल हो रहा है. हालांकि बार-बार दुकानों में छापे पड़ रहे हैं और बड़ी संख्या में प्लास्टिक के कैरी बैग की बरामदगी हो रही है. गुरुवार को निगम ने शहर 210 दुकानों में छपेमारी की इस दौरान 635 किलो प्लास्टिक का कैरी बैग बरामद किया गया.

अब तक 2091 दुकानदारों में पड़ा छापा, 73000 जुर्माना

छपरा नगर निगम द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार पिछले 1 साल में शहरों में 2091 दुकानों में छापेमारी की गई है. जिसमें इन दुकानों में लगभग डेढ़ कुंटल प्लास्टिक का कैरी बैग बरामद हुआ है. इसके अनुसार 2091 दुकानों में छापेमारी में 1490 किलो प्लास्टिक बरामद किया. गया. साथ ही साथ प्लास्टिक बरामदगी के साथ-साथ इन दुकानदारों को फाइन भी किया गया है. इसके तहत अब तक ₹73000 जुर्माने के रूप में वसूला गया है. इसके बाद भी दुकानदार नहीं मान रहे हैं. वहीं प्लास्टिक के कैरी बैग का इस्तेमाल चोरी छुपे खूब कर रहे. हालांकि नगर निगम का कहना है कि प्लास्टिक कैरी बैग के इस्तेमाल को लेकर दुकानदारों पर नजर रखी जा रही है. किराना दुकान, ठेले, हल सब्जी दुकान आदि में हमेशा छापेमारी होती रही है.

अब हुई कार्यवाई की डिटेल

प्लास्टिक प्रतिबंध लागू होने के बाद निगम ने सितंबर 2019 तक 1776 दुकानों में छापेमारी की थी. जिसमें 845 किलो ग्राम प्लास्टिक कैरी बैग बरामद हुआ था.वहीं इस दौरान ₹48400 जुर्माना भी वसूला गया था. इसके बाद 18 सितंबर को नगर निगम ने 105 दुकानों में छापेमारी की. जिसमें 10 किलो प्लास्टिक कैरी बैग बरामद हुआ. इस दौरान ₹14100 जुर्माना लगाया गया. इसके बाद गुरुवार को 12 दिसंबर को भी छपरा नगर निगम ने बड़ी कार्रवाई की और 210 दुकानों में छापेमारी की गई. जिसमें 635 किलो प्लास्टिक कैरी बैग बरामद हुआ. जिससे ₹10500 जुर्माने के रूप में वसूले गए अभी तक कुल की गई कार्रवाई में 2091 दुकानों में छापेमारी हुई, जिसमें ₹73000 जुर्माने के रूप में वसूले गए, वहीं1490 किलो प्लास्टिक कैरी बैग जप्त किए गए.


किराना दुकान, फल , सब्जी व ठेले पर हो रहा इस्तेमाल

आपको बता दें कि बिहार में प्रदूषण, जल संरक्षण व पर्यावरण संरक्षण को देखते हुए बिहार सरकार ने राष्ट्रीय के कैरी बैग पर बैन लगाया है. हालांकि कई जगह पर दुकानदार व आम लोग प्लास्टिक के इस्तेमाल से बाज नहीं आ रहे हैं. आपको बता दें कि शहरी क्षेत्र में छोटे बड़े दुकानदार चोरी छुपे प्लास्टिक कैरी बैग का इस्तेमाल कर ही रहे हैं. हालांकि निगम ने इसके लिए सिटी स्क्वाड टीम बनाई है. जो हमेशा इन दुकानों में छापेमारी कर प्लास्टिक के इस्तेमाल पर रोक लगाने के लिए कार्य करती है. ज्यादातर ठेले वाले, छोटे दुकानदार, फल बेचने वाले सब्जी बेचने वाले, राशन के दुकानदारों द्वारा प्लास्टिक का कैरी बैग का इस्तेमाल किया जा रहा है. वहीं कुछ अन्य दुकानों में भी इस तरह के इस्तेमाल की बातें सामने आ रही हैं.

मौना चौक और लाह बाजार में हैं कैरी बैग का भंडारण

वहीं प्लास्टिक बेचने वालों में ज्यादातर मौना चौक व लाह बाजार में छापेमारी हो रही है. जहां से प्लास्टिक के कैरी बैग की होलसेलिंग की जा रही है. लाह बाजार व मौना चौक इलाके में कुछ व्यपारियों द्वारा अवैध रूप से प्लास्टिक के भंडारण की बात सामने आ रही है. यही से

छोटे दुकानदारों को अवैध रूप से प्लास्टिक के कैरी बैग बेचे जा रहे हैं. आपको बता दे कि प्लास्टिक कैरी बैग के बदले में कपड़े के कैरी बैग को प्रमोट किया जा रहा है. बाजारों में कपड़े के कैरी बैग बेचे जा रहे हैं. हालांकि प्लास्टिक की तुलना में कपड़े के कैरी बैग थोड़े महंगे हैं. इस वजह से सस्ती कीमतों के चक्कर में दुकानदार चोरी- छुपे प्लास्टिक कैरी बैग का इस्तेमाल कर रहे हैं.

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.