कालीबाड़ी में सिंदूर खेला कर महिलाओं ने की माता की पूजा

कालीबाड़ी में सिंदूर खेला कर महिलाओं ने की माता की पूजा

Chhapra: नवरात्र में माता के नवमी तिथि की पूजा के बाद शुक्रवार को विजयादशमी का त्यौहार मनाया जा रहा है. दशमी तिथि या यूं कहें कि दशहरा के मौके पर सभी मंदिरों में पूजा अर्चना हो रही है.

शहर के कालीबाड़ी में इस तिथि पर विशेष पूजा की जाती है. नौ दिनों तक माता की आराधना के बाद इस समुदाय की महिलाएं सिंदूर खेला की विधि करती है.

कालीबाड़ी में दशमी के दिन दुर्गा मां के विसर्जन से पहले इस समुदाय की महिलाएं जमकर सिंदूर खेलते हैं और अगले साल फिर से आने की प्रार्थना करते हैं. सुहाग की लंबी आयु के लिए की जाने वाली इस विधि को लेकर महिलाओं में खासा उत्साह रहता है. महिलाओं ने पहले माता की प्रतिमा की विधि विधान से पूजा की तब जाकर एक दूसरे को सिंदूर लगा कर इस विधि को भी पूरा किया.

कुंवारी लड़कियां भी करती हैं यह रस्म

सिंदूर खेला की रस्म केवल शादीशुदा महिलाओं के लिए ही होती है लेकिन कुंवारी लड़कियां भी अब इस रस्म को निभाती हैं ताकि उन्हें अच्छा और मनपसंद वर मिल सके. इस रस्म को निभाते समय पूरा माहौल उमंग और मस्ती से भर जाता है.

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें