श्री रामार्चा पूजन के साथ श्री हनुमज्जयंती समारोह का 55 वां वार्षिक अधिवेशन शुरू

श्री रामार्चा पूजन के साथ श्री हनुमज्जयंती समारोह का 55 वां वार्षिक अधिवेशन शुरू

Chhapra: श्री हनुमज्जयंती समारोह का 55 वां वार्षिक अधिवेशन श्री रामार्चा पूजन के साथ शुरू हो गया. ग्यारह दिवसीय वार्षिक अधिवेशन मारूति मानस मंदिर परिसर में प्रारंभ हुआ.

अयोध्या के गोविंद जी महाराज रामर्चा पूजन करायें. अयोध्या के छोटी छावनी के संत कमल नयन दास जी महाराज प्रवचन माला का उद्घाटन किया. संतों एवं उपदेशकों की मधुर एवं ओजस्वी वाणी से ओतप्रोत कथा रूपी अमृत का पान कर अपने जीवन को धन्य बनाने के शुभ अवसर से भक्तों को नहीं चूकने का अनुरोध समारोह से जुड़े अनिरूद्ध सिंह ने लोगों से किया है.

आयोजन समिति से जुड़े लोगों ने भक्तों से तन-मन एवं धन  से जयंती समारोह को सफल बनाने में सहभागिता सुनिश्चित होने पर जोर दिया है।

श्री हनुमज्जयन्ती समारोह समिति के प्रधान सचिव प्रो रणंजय सिंह व सचिव सत्यनारायण शर्मा ने बताया कि 11 दिनों तक यह समारोह आयोजित होता है, जिसका समापन दीपावली के दिन होता है। छपरा में अंजनी पुत्र महावीर हनुमान का ननिहाल होने से भी इस कार्यक्रम को लोग उत्साह पूर्वक मनाने के लिए उत्सुक रहते है।

समारोह के लिए विशाल पंडाल का निर्माण किया गया है. जहाँ श्रद्धालु संतों की अमृतवाणी का रसपान करेंगे.

जिनमे देवरिया से श्री जगदगुरु श्री रामानुजाचार्य स्वामी श्री राजनारायणाचार्य  जी महाराज, अयोध्या से संत कमल नयन दास जी, श्री जगद्गुरु श्री रामानुजाचार्य स्वामी रत्नेश जी महाराज, हरदोई की सुश्री प्रज्ञा भारती गिरी उर्फ सन्यासिनी पंछी देवी,  खलीलाबाद से श्री वैराग्यनंद जी परमहंस, मध्यप्रदेश से श्री गोपाल शर्मा, छपरा से विद्या भूषण जी व मां अंबिका स्थान के श्री शिववचन जी शामिल हैं।

कार्यक्रम
प्रतिदिन सुबह नौ बजे श्री रामर्चा पूजन व कथा और संध्या में सात बजे से रात्रि 10 बजे तक संगीतमय भजनोत्सव,
14 अक्टूबर को सुबह 5:30 बजे से श्री अखंड हरिनाम संकीर्तन एवं अपराहन 4:00 बजे से भंडारा का आयोजन होगा.
प्रतिदिन 15 से 23 अक्टूबर तक श्री हनुमान जी का व अभिषेक गोदुग्धसे होगा.
रामचरितमानस का सामूहिक नवाह पारायण भी होगा. पुरुष सूक्त एवं श्री सूक्त से हवन भी होगा. दोपहर 2:00 बजे से संध्या 5:30 बजे व सायं 7:00 बजे से रात्रि 10:00 बजे तक उपदेश एवं प्रवचनमाला का कार्यक्रम है.

23 अक्टूबर को श्री हनुमान जी का जलाभिषेक दोपहर में होगा. 5:30 बजे शाम में श्री हनुमान जी का सहस्त्रनाम पूजन एवं संध्या 6:30 बजे से दीपमाला जन्मोत्सव व बधैया का कार्यक्रम होगा. 24 अक्टूबर को श्री हनुमान जी की शोभायात्रा सुबह 9:30 बजे से निकाली जाएगी. 

0Shares
Prev 1 of 194 Next
Prev 1 of 194 Next

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें