शहर की जल निकासी व सिवरेज ट्रिटमेंट प्लांट का होगा निर्माण: रूडी

Chhapra: विकास को अपनी पहली प्राथमिकता मानने वाले स्थानीय सांसद राजीव प्रताप रुडी का छपरा शहर की जल निकासी व सिवरेज ट्रिटमेंट प्लांट स्थापित करने के प्रयासों को मूर्तरूप देने की कवायद तेज हो गई है. इस संदर्भ में मंगलवार को सारण जिलाधिकारी के कार्यालय में बूडको व निगम के अधिकारियों के साथ डीडीसी रौशन कुशवाहा, जिलाधिकारी सुब्रत कुमार ने बैठक की.

बैठक में एसडीओ सदर, बूडको के कार्यपालक अभियंता, निगम के अभियंता, पथ निर्माण विभाग के एक्सक्यूटिव इंजिनियर और परियोजना के कंसल्टेंट के साथ सारण सांसद रुडी के प्रतिनिधि ई॰ सत्येन्द्र कुमार सिंह उपस्थित थे.

शहर को जलजमाव से मुक्ति दिलाने के लिए जन निकासी व सिवरेज ट्रिटमेंट प्लांट वाली श्री रुडी द्वारा स्वीकृत कराये गये 200 करोड़ की योजना को कार्यरूप में लाने पर चर्चा हुई.श्री रुडी के निर्देशानुसार छपरा में स्थापित होने वाले 22 एमएलडी के सिवरेज ट्रिटमेंट प्लांट जो पूर्व में एक स्थान पर प्रस्तावित था उसे दो स्थानो पर स्थापित करने पर भी चर्चा हुई ताकि कभी किसी कारणवश एक प्लांट कार्य न करे तो दूसरे प्लांट से भी उसका काम लिया जा सके.

बैठक में सिवरेज ट्रिटमेंट प्लांट के संदर्भ में वूडको द्वारा अपना प्रतिवेदन दिखाया गया.बैठक में उपस्थित सदस्यों ने वूडकों के पदाधिकारियों से इसमें कुछ सुधार कर पुनः पेश करने के लिए कहा गया. इस संदर्भ में पुनः 10 मई को डीडीसी के कार्यालय में एक बैठक बुलाई गई है, जिसमें बुधवार को नमामि गंगे परियोजना की समीक्षा में आ रही केन्द्रीय टीम के सदस्य भी उपस्थित रहेंगे.

विदित हो कि सांसद श्री रुडी ने केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी और राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के अधिकारियों से मिलकर इस दो सौ करोड़ की योजना को स्वीकृत कराया था. स्वीकृत योजना के तहत सारण में 150 करोड़ की लागत से इण्टरसेप्सन का निर्माण और 50 करोड़ की लागत से स्टॉर्म ड्रेनेज का निर्माण कराया जाना है. इन योजनाओं के पूरा होने के बाद छपरा को एक उच्च क्षमता का स्टार्म ड्रेनेज मिलेगा और जनता को जलजमाव से हमेशा के लिए मुक्ति मिल जायेगी.

इस संबंध में श्री रुडी ने कहा कि अब छपरा के लोगों को शीघ्र हीं एक प्रभावशाली ड्रेनेज मिलेगा साथ ही खनुआ नाला की भी चौड़ाई और गहराई को बढ़ाकर इसका उन्नयन किया जायेगा। परियोजना का कार्य एक वर्ष के अंदर शुरू हो जायेगा.

विदित हो कि शहर की यातायात व्यवस्था को जाममुक्त बनाने के लिए छपरा कचहरी से सांढ़ा ढाला तक ओवर ब्रिज का निर्माण कराया गया था.निर्माण के दौरान ओवरब्रिज के नीचे पहले से ही बने नाले से जल निकासी बंद हो गई थी.निर्माण कंपनी द्वारा नाले का निर्माण किया गया था पर गलत निर्माण के कारण शहर के निवासियों को काफी परेशानी हो रही थी. इसी परेशानी को देखते हुए स्थानीय सांसद श्री रुडी ने नये नाले के निर्माण की पहल की और केन्द्रीय सहयोग से 200 करोड़ की राशि इसके लिए स्वीकृत करा ली.

नाला निर्माण के इस कार्य के लिए सारण के डीडीसी. रोशन कुशवाहा को नोडल अधिकारी बनया गया. सांसद के प्रयास से अब नाला निर्माण के बाद छपरा में न तो बरसात में जल जमाव होगा और न ही प्रतिदिन की जल निकासी की परेशानी होगी.

0Shares
A valid URL was not provided.