छपरा में आपसी विवाद में अधिवक्ता पिता-पुत्र की गो’लीमा’र कर ह’त्या, दो हिरासत में

सुबह सुबह छपरा में दो वकीलों की गोलीमार कर ह”त्या, दो गिरफ्तार

Chhapra: बुधवार की सुबह शहर से सटे मुफ़स्सिल थन क्षेत्र के मेथवलिया के समीप दो लोगों की गोलीमार हत्या से सनसनी फ़ैल गई. दोनों मृतक पेशे से वकालत करते थे और सुबह सुबह वह कचहरी जा रहे थे. मृतकों की पहचान मुफ्फसिल थाना क्षेत्र के मेथवलिया गांव निवासी राम अयोध्या प्रसाद और सुनील यादव के रूप में हुई है जो पिता पुत्र बताए जा रहे है. इस मामले में पुलिस ने त्वरित कार्यवाई करते हुए दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया है.

घटना को लेकर स्थानीय लोगों के द्वारा बताया गया कि बुधवार की सुबह दोनों पिता पुत्र बाइक से कचहरी जा रहे थे इसी बीच दुदही पुल के समीप गोलीमार दी गई. आनन फानन में दोनों को अस्पताल लाया गया जहां चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया.

घटना के बाद से लोग आक्रोशित है और अपराधियों के गिरफ्तारी की मांग कर रहे है. पूरे अस्पताल परिसर में अधिवक्ताओं ने पहुंचकर अविलंब गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे.

छपरा विधिमंडल अध्यक्ष गंगोत्री प्रसाद ने कहा कि आए दिन अधिवक्ताओं के साथ मारपीट होती रहती है, जिससे वह असहज हो गए है आज दो अधिवक्ताओं की हत्या दुखद है. उन्होंने अविलंब अपराधियों की गिरफ्तारी और पीड़ित परिवार को मुआवजा देने की मांग की है.

घटना को लेकर एसडीपीओ राजकिशोर सिंह ने बताया कि हत्या का कारण जांच के दौरान जमीनी विवाद बताया जा रहा है और यह पहले से विवाद चल रहा था. इस मामले में दो लोगों की गिरफ्तारी हुई है और उनसे पूछताछ की जा रही है.

एसपी ने कहा- स्पीडी ट्रायल चलाकर दिलाई जाएगी सजा

छपरा में कोर्ट जाते समय अधिवक्ता पिता पुत्र की हत्या के मामले में सारण के एसपी डॉक्टर कुमार आशीष ने बताया कि हत्या आपसी विवाद में हुई है। इस कांड में नामजद दो लोगों को फिलहाल पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

उन्होंने बताया कि मामले के हर पहलू की जांच की जा रही है। एसपी ने बताया कि गिरफ्तार लोगों को स्पीडी ट्रायल चलाकर सजा दिलवाई जाएगी।

 

अधिवक्ता पिता-पुत्र की हत्या के विरोध में अधिवक्ताओं ने न्यायिक कार्य से खुद को किया अलग

बुधवार की सुबह छपरा में दो अधिवक्ताओं की हत्या के बाद छपरा न्यायालय के अधिवक्ता का आक्रोश दिखा. शहर के सदर अस्पताल से लेकर थाना चौक तक अधिवक्ता प्रदर्शन कर इस घटना में शामिल लोगों पर अविलंब कार्यवाई और मुआवजे की मांग कर रहे थे.

हालांकि पुलिस ने इस मामले में त्वरित कार्यवाई करते हुए दो लोगों को गिरफ्तार किया है और शेष की गिरफ्तारी के लिए कार्य किया जा रहा है. विधि मंडल के अध्यक्ष और सचिव ने पुलिस अधीक्षक से इस मामले में बातचीत की साथ ही इस घटना को अपने स्तर से त्वरित निष्पादन की बात कही.

उधर विधि मंडल के महामंत्री अमरेन्द्र कुमार ने जिला और सत्र न्यायाधीश को आवेदन देते हुए इस घटना से शोकाकुल होकर बुधवार को न्यायालय कार्य से अलग रहने की बात कही है.

महामंत्री ने अपने आवेदन में कहा है कि बुधवार की सुबह न्यायालय आने के क्रम में छपरा विधि मंडल के अधिवक्ता राम अयोध्या प्रसाद यादव एवं उनके पुत्र अधिवक्ता सुनील कुमार को अपराधियों द्वारा गोली मार कर हत्या कर दी गई है जिनका शव अभी भी सदर अस्पताल छपरा में रखा हुआ है.

जिसके कारण दोनों अधिवक्ताओ के सम्मान में आज बुधवार दिनांक 12/6/24 को पूर्ण कार्य दिवस से अधिवक्तागण अपने को न्यायालीय कार्य से अलग रखेंगे.

उन्होंने आग्रह किया है कि अधिवक्ता के अनुपस्थिति या पैरवी के अभाव में कोई विपरीत आदेश न पारित किया जाय.

0Shares
A valid URL was not provided.