विक्रम लैंडर का संपर्क टूटते ही मायूस दिखे वैज्ञानिक और करोड़ों देशवासी

विक्रम लैंडर का संपर्क टूटते ही मायूस दिखे वैज्ञानिक और करोड़ों देशवासी

Chhapra: चंद्रयान 2 के लैंडर विक्रम के चांद की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग देखने के लिए लोग रात 12 बजे से ही टेलीविजन के सामने बैठ गए थे. कोई मोबाइल से ही इस ऐतिहासिक पल का गवाह बनने को बेताब था. सभी की उत्साह और उत्सुकता के साथ इस लैंडिंग को देखने के लिए बैठे थे.

ISRO सेंटर से सीधी तस्वीरों में जैसे ही वैज्ञानिकों ने तालियां बजायी सभी इस अभियान की सफलता के लिए और भी उत्साहित हो गए. परंतु चांद से 2.1 किलोमीटर पहले विक्रम लैंडर का संपर्क मिशन सेंटर से टूट गया. टेलीविजन के जरिये करोड़ो लोग इस क्षण में दुआओं की शुरुआत की. ISRO प्रमुख ने आधिकारिक जानकारी देते हुए कहा कि विक्रम लैंडर से संपर्क टूट गया है, डेटा को एनालाइज किया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें: ISRO चेयरमैन सिवन के आंखों से निकल पड़े आंसू, पीएम मोदी ने गले लगा बंधाया ढांढ़स

इसे भी पढ़ें: Chandrayaan2: 95 प्रतिशत मिशन सफल, एक साल तक ऑर्बिटर भेजेगा जानकारियाँ

सोशल मीडिया पर लोगों ने ISRO और वैज्ञानिकों का बढ़ाया उत्साह
इसके साथ करोड़ो देशवासियों को निराशा जरूर हुई पर सभी ने वैज्ञानिकों का हौसला बढ़ाते हुए संदेश दिया. सोशल मीडिया पर लोगों ने ISRO और वैज्ञानिकों का उत्साह बढ़ाया.इसरो का मिशन चंद्रयान-2 भले ही इतिहास नहीं बना सका लेकिन वैज्ञानिकों को देश सलाम कर रहा है.भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के वैज्ञानिक पिछले काफी लंबे समय से दिन-रात एक करके इस मिशन को सफल बनाने में जुटे थे. जो आंखे बड़ी उत्सुकता से स्क्रीन पर मिशन चंद्रयान-2 के हर कदम को परख रही थी, वो अचानक उस वक्त ठिठक गईं जब लैंडर विक्रम से इसरो का संपर्क टूट गया.

भावुक हुए इसरो चेयरमैन 
लैंडिंग के समय विक्रम लैंडर का संपर्क टूटने के बाद वैज्ञानिकों समेत ISRO के चेयरमैन निराश दिखे. चेयरमैन के० सिवन भावुक हुए तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें गले लगाकर उनका ढाढस बढ़ाया.    

#ISRO #ProudIndian #ProudScientist #Chandrayaan2


छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.