(प्रशांत सिन्हा) राजनीति के अद्भुत खिलाड़ी, क्रांतिकारी और सब कुछ देश की आज़ादी के लिए दांव पर लगाने वाले नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की आज जयंती है। सुभाष चन्द्र बोस का जन्म 23 जनवरी 1897 को ओडिशा के कटक शहर में हुआ था। स्वतंत्रता संग्राम में उन्होने बड़ी भूमिका निभाईRead More →

(प्रशांत सिन्हा) नए वर्ष में नव प्रभात का नव सत्कार करें. पूरे संसार में नए साल के आगमन का उत्सव पूरे उल्लास उमंग से मनाया जाता है. नए साल के आगमन पर एक सुदृढ परंपरा है कि लोग अपने अंदर सुधार लाने या अपनी बेहतरी के लिए नए संकल्प लेतेRead More →

(प्रशांत सिन्हा)  आज भारत के पहले राष्ट्रपति डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद का जन्मदिन है। उनके जन्मदिन के मौके पर जानते है उनके बारे में। उनकी आज 136 वीं जयंती है। उनका जन्म 3 दिसंबर 1884 को बिहार के सीवान जिले के जीरादेई गांव में हुआ था। वे भारतीय स्वाधीनता आंदोलन केRead More →

Chhapra: भारत के प्रथम राष्ट्रपति देशरत्न डॉ राजेंद्र प्रसाद की जयंती 3 दिसंबर को मनाई जाती है. महापुरुषों की जयंती पर विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है लेकिन राजेंद्र बाबू की जयंती पर साधारण कार्यक्रम तक सीमित कर दिया जाता है. जिला स्कूल में स्थापित राजेंद्र बाबू की प्रतिमाRead More →

(प्रशांत सिन्हा)  देश में कार्तिक पूर्णिमा, देव दीपावली और गुरुनानक देव की जयंती मनाई जा रही है। गुरुपर्व का सिख धर्म में बहुत महत्व है। हर साल कार्तिक मास की पूर्णिमा तिथि के दिन गुरुनानक जयंती मनाई जाती है। कार्तिक पूर्णिमा का हिन्दू ओर सिख धर्म में विशेष महत्व है।Read More →

(प्रशांत सिन्हा) बिहार की चुनावी नतीजे ने कांग्रेस में आंतरिक संघर्षों का खुलासा किया। बिहार के नतीजों का कांग्रेस से आह्वान आत्मचिंतन करने का है इससे पहले कि बहुत देर हो जाए। कांग्रेस पार्टी में आंतरिक कलह रुक रुक कर सामने आ रही है। पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं काRead More →

(प्रशांत सिन्हा) 26 नवंबर को संविधान दिवस का आयोजन राष्ट्रीय उत्सव के रूप में मनाया जाना चाहिए. संविधान को जानने में ही भारतीय लोकतंत्र का भविष्य निहित है. सरकारें भी मानती हैं आम जनता के बीच उनके मौलिक कर्तव्यों के प्रति जागरुकता की आवश्यकता है. इसका प्रसार आम जनता केRead More →

नीरज सोनी   अकेला चना क्या भाड़ फोड सकता है? यह सवाल हमेशा दिमाग में उठता है जब हम सरकारी तंत्र की मार खाते हैं. लेकिन लोकतंत्र में ऐसे कई चने हुए जिन्होंने अकेले ही घड़े रूपी सरकार को तोड़ दिया. जयप्रकाश नारायण एक ऐसे ही शख्स थे जिन्होंने अपनी जिंदगीRead More →

(प्रशांत सिन्हा) भारत वर्ष गांधी, जयप्रकाश, लोहिया, बिनोभा के अहिंसा एवं राजनीति में नैतिक मर्यादाओं की वजह से जाना जाता है। बीसवीं सदी में भारत में जितने महापुरुष पैदा हुए उसमें जयप्रकाश नाम अग्रणी पंक्ति में आता है। जयप्रकाश नारायण का जन्म 11 अक्टूबर 1902 को बिहार के सिताबदियारा मेंRead More →

पूरा विश्व 8 सितम्बर को हर वर्ष साक्षरता दिवस मनाता है। विश्व में शिक्षा के महत्व को दर्शाने और निरक्षरता को समाप्त करने के उद्देश्य से 17 नवम्बर 1965 को यह निर्णय  यूनेस्को द्वारा लिया गया था। पहला अंतर्राष्ट्रीय साक्षरता दिवस 1966 को मनाया गया था। भारत में साक्षरता दरRead More →

बहुप्रतीक्षित और  बहुचर्चित राष्ट्रीय शिक्षा नीति -2020 को कैबिनेट की मंजूरी मिल गई। आखिरी बार यह 1986 में तय किया गया था। हालांकि 1992 में थोड़े संशोधन किए गए थे। बदलती ज़रूरतों के अनुसार शिक्षा नीति में बदलाव की जरूरत लंबे समय से महसूस की जा रही थी मगर अबRead More →

  दुश्मन की गोलियों का सामना हम करेंगे, आज़ाद थे, आज़ाद हैं, आज़ाद ही रहेंगे. महान क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद की आज जयंती है. उनकी जयंती पर देश उनको याद कर रहा है. चंद्रशेखर आजाद के नाम से अंग्रेज कांपा करते थे. उनका जन्म मध्य प्रदेश के झाबुआ में 23 जुलाईRead More →