(कबीर अहमद) समय के साथ सब कुछ बदलता है, वैसे भी परिवर्तन संसार का नियम है. विगत सालों में जो सबसे तेजी से बदलता दिखा है वो है हाथों में किताबों की जगह स्मार्ट फ़ोन्स. जो आंख कभी किताबों के पन्ने पढ़ने पर नींद की आगोश में खो जाती थीREAD MORE CLICK HERE

सुरेश हिन्दुस्थानी भारत भूमि के संस्कार समाज में ऐक्य भाव की स्थापना का मार्ग प्रशस्त करता है। वर्तमान में जहां परिवार टूट रहे हैं, समाज में अलगाव की भावना भी विकसित होती जा रही है। इसे समाप्त करने के लिए हमारे त्यौहार हर वर्ष पथ प्रदर्शक बनकर आते हैं, लेकिनREAD MORE CLICK HERE

  (प्रशांत सिन्हा) जल संरक्षण कीजिए, जल जीवन का सार । जल न रहे यदि जगत में, तो जीवन है बेकार। हम सभी अक्सर सुनते हैं “जल ही जीवन है, जल के बिना जीवन का अस्तित्व नहीं है, बिन पानी सब सून, जल है तो कल है “. इसलिए कलREAD MORE CLICK HERE

(प्रशांत सिन्हा) हर वर्ष विश्व के लगभग कई देशों में 8 मार्च को अंतराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जाता है. इस दिन को मनाने का मुख्य उद्देश्य महिलाओं के अधिकारों को बढ़ावा देना है. इस वर्ष के लिए अंतराष्ट्रीय महिला दिवस का थीम “women in leadership : Achieving an equal futureREAD MORE CLICK HERE

(प्रशांत सिन्हा) शुक्रवार रात 10.34 के करीब पूरे उत्तर भारत में भूकम्प 6.1 की तीव्रता से आया। इसके अलावा पाकिस्तान,  तजाकिस्तान में भी भूकम्प के झटके आये।  भूकंप का केन्द्र तजाकिस्तान था। इस की तीव्रता 6.3 थी। कुछ दिनों से कई बार दिल्ली- एनसीआर और देश के कई हिस्से मेंREAD MORE CLICK HERE

(प्रशांत सिन्हा) यही वह 26 जनवरी का गौरवशाली ऐतिहासिक दिन है जब भारत ने आज़ादी के लगभग 2 साल 11 महीने 18 दिनों के बाद इसी दिन हमारी संसद में भारतीय संविधान को पास किया था। ख़ुद को संप्रभु, लोकतांत्रिक गणराज्य घोषित करने के साथ ही भारत के लोगों द्वाराREAD MORE CLICK HERE

(प्रशांत सिन्हा) राजनीति के अद्भुत खिलाड़ी, क्रांतिकारी और सब कुछ देश की आज़ादी के लिए दांव पर लगाने वाले नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की आज जयंती है। सुभाष चन्द्र बोस का जन्म 23 जनवरी 1897 को ओडिशा के कटक शहर में हुआ था। स्वतंत्रता संग्राम में उन्होने बड़ी भूमिका निभाईREAD MORE CLICK HERE

(प्रशांत सिन्हा) नए वर्ष में नव प्रभात का नव सत्कार करें. पूरे संसार में नए साल के आगमन का उत्सव पूरे उल्लास उमंग से मनाया जाता है. नए साल के आगमन पर एक सुदृढ परंपरा है कि लोग अपने अंदर सुधार लाने या अपनी बेहतरी के लिए नए संकल्प लेतेREAD MORE CLICK HERE

(प्रशांत सिन्हा)  आज भारत के पहले राष्ट्रपति डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद का जन्मदिन है। उनके जन्मदिन के मौके पर जानते है उनके बारे में। उनकी आज 136 वीं जयंती है। उनका जन्म 3 दिसंबर 1884 को बिहार के सीवान जिले के जीरादेई गांव में हुआ था। वे भारतीय स्वाधीनता आंदोलन केREAD MORE CLICK HERE

Chhapra: भारत के प्रथम राष्ट्रपति देशरत्न डॉ राजेंद्र प्रसाद की जयंती 3 दिसंबर को मनाई जाती है. महापुरुषों की जयंती पर विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है लेकिन राजेंद्र बाबू की जयंती पर साधारण कार्यक्रम तक सीमित कर दिया जाता है. जिला स्कूल में स्थापित राजेंद्र बाबू की प्रतिमाREAD MORE CLICK HERE

(प्रशांत सिन्हा)  देश में कार्तिक पूर्णिमा, देव दीपावली और गुरुनानक देव की जयंती मनाई जा रही है। गुरुपर्व का सिख धर्म में बहुत महत्व है। हर साल कार्तिक मास की पूर्णिमा तिथि के दिन गुरुनानक जयंती मनाई जाती है। कार्तिक पूर्णिमा का हिन्दू ओर सिख धर्म में विशेष महत्व है।READ MORE CLICK HERE

(प्रशांत सिन्हा) बिहार की चुनावी नतीजे ने कांग्रेस में आंतरिक संघर्षों का खुलासा किया। बिहार के नतीजों का कांग्रेस से आह्वान आत्मचिंतन करने का है इससे पहले कि बहुत देर हो जाए। कांग्रेस पार्टी में आंतरिक कलह रुक रुक कर सामने आ रही है। पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं काREAD MORE CLICK HERE