बिहार चुनाव: BJP का नया प्रयोग, वर्चुअल रैली के माध्यम से गृहमंत्री अमित शाह करेंगे जनसंवाद

बिहार चुनाव: BJP का नया प्रयोग, वर्चुअल रैली के माध्यम से गृहमंत्री अमित शाह करेंगे जनसंवाद

Chhapra (संतोष कुमार बंटी): बात सियासत की हो तो बिहार से ही इबादत लिखी जाती है. इतिहास गवाह रहा है, राजनीति और राजनेता बिहार के बिना इसकी कल्पना अधूरी सी लगती है. जनआंदोलन के अगुआ कहे जाने वाले बिहार से एक बार फिर एक नई राजनीतिक बिसात की शुरुआत हो रही है. हालांकि यह समय की मार है. लेकिन आधुनिकता के इस दौर में दुनिया जितनी तेजी से बढ़ रही है, भले ही उस अनुपात में भारत का विकास ना हुआ हो, लेकिन राजनीतिक दृष्टिकोण से राजनीतिक पार्टियों ने जिस तरह से अपना विकास किया है. जितनी आधुनिक राजनीति पार्टियां हो गई हैं अगर उसी अनुरूप देश का विकास हुआ होता तो भारत भी विकासित  देशों में शुमार होता.

बहरहाल, बात बिहार के राजनीतिक उत्थान की है. बिहार में इसी वर्ष विधानसभा चुनाव होने वाले है. कोरोना वायरस और लॉक डाउन में सभी राजनीतिक पार्टियों ने अपनी चुनावी रणनीति बना ली है. डिजिटल माध्यमों से जनता के बीच मजबूत पकड़ के साथ 2014 में सत्ता में वापस आई बीजेपी बिहार विधानसभा चुनाव में आगाज भी डिजिटल तरीके से करने जा रही है. हालांकि करोना काल में यही एक साधन है जिसके माध्यम से एक दूसरे तक पहुंच सकते हैं, लेकिन इस नई राजनीतिक परिपाटी की शुरुआत बिहार से होने जा रही है और आने वाले चुनाव में राजनीतिक पार्टी और राजनेता इसका भरपूर प्रयोग कर जनता से रूबरू होंने के लिए करेंगे.

अब तक डिजिटल प्लेटफॉर्म फेसबुक और व्हाट्सएप के माध्यम से सीधे संदेश देने वाली राजनीतिक पार्टी BJP BIHAR में Digital रैली यानी कि वर्चुअल रैली के जरिए जनता को अपनी ओर आकर्षित करेगी.

जिसमें एक बार फिर सामान्य रैलियों की तरह रैली को सफल बनाने की जिम्मेदारी कार्यकर्ताओं की होगी. राज्य से लेकर जिला और प्रखंड तथा टोले में इस नई वर्चुअल रैली को सफल बनाने की तैयारी जोरों पर है. जनता इस बार अपने नेता को मंच की बजाए TV, LED स्क्रीन प्रोजेक्टर मोबाइल के जरिए इनके भाषणों को घर बैठे सुनेगी.

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 का भारतीय जनता पार्टी ने बिगुल फूंक दिया है. आगामी रविवार यानी 7 जून को बिहार जनसंवाद वर्चुअल रैली के माध्यम से संध्या 4:00 बजे देश के गृह मंत्री अमित शाह जनता को संबोधित करेंगे. नए माध्यम से चुनावी प्रचार प्रसार का आगाज बिहार से हो रहा है. राज्य से लेकर पंचायत टोला तक BJP वर्कर इस भाषण को सुनने के लिए तैयार हैं. करोना काल में राजनीतिक पार्टियों द्वारा जन रैली की यह प्रक्रिया आर्थिक रूप से काफी लाभदायक होगी. साथ ही साथ समय, वाहन, प्रदूषण, भीड़ और अन्य फिजूलखर्ची से भी निजात मिलेगी. BJP पहली पार्टी भी होगी जिसने डिजिटल रूप में आकर जनसंवाद रैली का आयोजन किया और बिहार चुनाव में अपनी उपस्थिति दर्ज की.

बिहार में विधानसभा चुनाव अक्टूबर माह में होने के आसार दिख रहे हैं. ऐसे में जनता को अपने पक्ष में करने के लिए राजनीतिक पार्टियों के समक्ष बहुत कम समय बचा है. Corona को लेकर अर्थव्यवस्था पहले ही हाशिए पर है ऐसे में यह आसान माध्यम ही प्रचार प्रसार का तरीका कारगर साबित होगा.

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें