संस्कार भारती ने प्रेमचंद्र की कहानी से दिया ”देशभक्ति और सामाजिक दायित्व” का संदेश

संस्कार भारती ने प्रेमचंद्र की कहानी से दिया ”देशभक्ति और सामाजिक दायित्व” का संदेश

बेगूसराय: कला के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले राष्ट्रव्यापी राष्ट्रवादी संगठन संस्कार भारती के बैनर तले बेगूसराय में प्रेमचंद की दो कहानियों ”मृत्यु के पीछे” तथा ”अनमोल रतन” का नाट्य मंचन फैक्ट स्पेस में किया गया।

संस्कार भारती के कार्यकारी जिलाध्यक्ष प्रवीण कुमार गुंजन के मार्गदर्शन में दो युवा कृष्णा सोनिका एवं भूपेंद्र तिमसीना के निर्देशन में कलाकारों ने अपने भाव तथा सुंदर अभिनय से दर्शकों को कथा की प्रवाह से बांधे रखा। प्रेमचंद की यह दोनों कहानियों ने देशभक्ति एवं सामाजिक दायित्व के निर्वहन करने का संदेश दिया।

‘दुनिया का सबसे अनमोल रत्न’ प्रेमचंद की पहली कहानी है। यह उस कहानी संग्रह का हिस्सा है, जिसे अंग्रेज सरकार ने बैन कर दिया था। इसमें दिलफरेब दिलफिगार से कहती है कि ”अगर तू मेरा सच्चा प्रेमी है, तो जा दुनिया की सबसे अनमोल चीज लेकर मेरे दरबार में आ।” दिलफरेब दो बार नाकाम हो कर लौटता है, लेकिन तीसरी बार जब आता है तो वह रत्न खोजने में कामयाब हो जाता है, जिसके सामने दुनिया की हर चीज फीकी है।

इस कहानी में प्रेमचंद देशभक्ति को अनमोल रतन बताते है ”वो आखिरी कतरा-ए-खून जो वतन की हिफाजत में गिरे, दुनिया की सब से बेशकीमती शय है।” प्रेमचंद की दो कहानियों पर आधारित यह नाटक की कथा बेहतरीन थी और उसके चरित्र मंच पर ऐसे असर कर रहे थे, जैसे हमसे सवाल किया जा रहा हो। प्रथम कहानी मृत्यु की पीछे की कथा में एक व्यक्ति वकालत छोड़कर जाति सेवा के लिए पत्र निकालता है। लेकिन उसकी पत्नी को इस निर्णय के कारण जो सुखों का त्याग करना पड़ा, उसके लिए हमेशा कोसती रहती थी। जब उस व्यक्ति की मृत्यु के बाद क्या हुआ उसकी कहानी थी।

सभी कलाकारों ने अपने भाव-भंगिमा एवं जीवंत अभिनय से दर्शकों को भाव विभोर कर दिया। अभिनेताओं में कृष्णा सोनिका नाटक के केन्द्र में थी एवं अपनी भूमिका से काफी प्रभावित किया। आलम नूर, भूपेंद्र तिमसिना, अंकित राज, सौरव पॉल ने शानदार काम किया। अन्य अभिनेताओं में रत्नेश कुमार, अभिजीत कुमार, सुशील कुमार का भी अभिनय सराहनीय रहा। प्रकाश परिकल्पना चिन्टू कुमार एवं साउंड परिकल्पना मो. रहमान का था। कार्यक्रम के प्रारंभ में प्रवीण कुमार गुंजन एवं कुमार अभिजीत मुन्ना ने सभी आगत अतिथियों को अंगवस्त्र से सम्मानित किया गया।

इससे पूर्व नाट्य समारोह का शुभारंभ बेगूसराय के निवर्तमान महापौर उपेन्द्र प्रसाद सिंह, भाजपा जिलाध्यक्ष राजकिशोर सिंह, पूर्व महापौर संजय कुमार सिंह, निवर्तमान उपमहापौर राजीव रंजन, आर्यभट्ट के निदेशक प्रो. अशोक कुमार सिंह अमर, फैक्ट रंगमंडल के अध्यक्ष विश्वरंजन कुमार सिंह, डॉ. मुकेश कुमार एवं भाजपा नेता अजीत भारद्वाज ने दीप प्रज्वलित कर किया। उद्घाटन सत्र का संचालन कुमार अभिजीत मुन्ना ने किया।

0Shares
[sharethis-inline-buttons]

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें