बिहार के दस अनुमंडलीय अस्पतालों में अभी तक नहीं लगा एक भी ऑक्सीजन प्लांट

बिहार के दस अनुमंडलीय अस्पतालों में अभी तक नहीं लगा एक भी ऑक्सीजन प्लांट

पटना: बिहार सरकार ने गत मई माह में ब्रावो फार्मा को दस अनुमंडलीय अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट लगाने का काम दिया था। सरकार ने अपने आदेश में कहा था कि दस में से दो जगहों पर मई महीने में और बाकी आठ जगहों पर जून के पहले हफ्ते में हर हाल में ऑक्सीजन प्लांट स्थापित कर देना है।

इसके लिए बिहार औद्योगिक क्षेत्र विकास प्राधिकरण (बियाडा) ने ब्रावो फार्मा कंपनी के खाते में दो सेट का पैसा एडवांस पेमेंट भी कर दिया। अब कोरोना का संकट धीरे-धीरे खत्म हो रहा है। लेकिन सारे ऑक्सीजन प्लांट हवा में ही तैर रहे हैं। एक भी जगह ऑक्सीजन जेनरेशन प्लांट स्थापित नहीं हो सका। पूछने पर अधिकारी कह रहे कि यह सही बात है कि कंपनी ने एक भी जगह अब तक ऑक्सीजन प्लांट स्थापित नहीं की है। 

स्वास्थ्य विभाग ने उद्योग विभाग को दस अनुमंडलीय अस्पतालों में ऑक्सीजन जेनरेशन प्लांट स्थापित करने को लेकर पत्र लिखा। इसके बाद उद्योग विभाग की तरफ से बियाडा ने दस अनुमंडलीय अस्पतालों में ऑक्सीजन जेनरेश प्लांट स्थापित करने को लेकर एक कंपनी से समझौत किया। बियाडा के कार्यपालक निदेशक ने छह मई 2021 को ब्रावो फार्मा को दस अस्पतालों में ऑक्सीजन जेनरेशन प्लांट लगाने को लेकर पत्र लिखा। बियाडा के वर्क ऑर्डर में कंपनी ब्रावो फार्मा को दो प्लांट मई के अंत तक और बाकी के आठ ऑक्सीजन जेनरेश प्लांट जून के पहले हफ्ते तक लगा देना था।

विभाग से जो जानकारी मिली है उसके अनुसार एक प्लांट के लिए राज्य सरकार ब्रावो फार्मा को 60 लाख रुपये देने वाली है। बियाडा ने वर्क ऑर्डर के साथ ही दो जगहों के प्लांट का एडवांस पैसा भी कंपनी को भुगतान कर दिया है। इसके बाद भी अब तक एक भी जगहों पर ऑक्सीजन प्लांट नहीं लगाया जा सका है। बियाडा के कार्यपालक निदेशक भोगेन्द्र लाल ने बताया कि कंपनी ने समय सीमा खत्म होने के बाद भी एक भी जगह पर ऑक्सीजन जेनरेशन प्लांट नहीं लगाया। उन्होंने बताया कि ब्रावो फार्मा को दस अस्पतालों में प्लांट लगाने का ऑर्डर दिया गया था। दो जगहों के लिए एडवांस पैसा भी रिलीज किया गया है।

कार्यपालक निदेशक ने बताया कि कंपनी की तरफ से बताया गया है कि ऑक्सीजन जेनरेश प्लांट के लिए मशीन का क्लीयरेंस नहीं हो
रहा था। अब क्लीयरेंस मिल गया है। बहुत जल्द वो मशीनें बिहार आ जायेंगी। उन्होंने कहा कि इस मामले में कंपनी पर नियमानुसार कार्रवाई होगी।

उल्लेखनीय है कि स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने उद्योग विभाग के अपर मुख्य सचिव को पत्र लिखकर दस अनुमंडलीय अस्पतालों में ऑक्सीजन जेनरेशन प्लांट स्थापित करने का आग्रह किया था। स्वास्थ विभाग ने कहा था कि प्लांट स्थापित करने को लेकर बियाड़ा को राशि उपलब्ध कराई जाएगी। जिन अनुमंडलीय अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट की स्थापना की जानी है उनमें-टिकारी, मोहनिया, नवगछिया, तारापुर, दलसिंहसराय, बारसोई, अरेराज, राजगीर, बाढ़ और सोनपुर शामिल है।

इनपुट एजेंसी से 

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें