बिहार के नालंदा में मृतकों का संख्या पहुंची 11, सोहसराय थाना प्रभारी सस्पेंड

बिहार के नालंदा में मृतकों का संख्या पहुंची 11, सोहसराय थाना प्रभारी सस्पेंड

-परिजनों का आरोप जहरीली शराब से हुई मौत

पटना: बिहार के नालंदा में संदिग्ध परिस्थिति में मरने वालों की संख्या बढ़कर 11 हो गई है। परिजन शराब पीने से मौत की बात कह रहे हैं। घटना जिले के सोहसराय थाना क्षेत्र के छोटी पहाड़ी और पहाड़ तल्ली मोहल्ला की है। जिले के आईजी ने सोहसराय थाना अध्यक्ष सुरेश प्रसाद को सस्पेंड कर दिया है।

लोगों का कहना है कि जहरीली शराब पीने से मौत का सिलसिला अब तक जारी है। मृतक की पहचान छोटी पहाड़ी मोहल्ला निवासी प्रह्लाद कुमार (40) सिंटू कुमार (35) एवं बालेश्वर मिस्त्री का पुत्र (35) शंकर मिस्त्री के रूप में हुई। शनिवार को आठ लोगों के मरने के पुष्टि जिलाधिकारी ने की थी।

प्रहलाद की मां मुंद्रिका देवी ने बताया, ‘बेटा शराब पीकर घर आया था। जब अपने बेटे को नशे में धुत होकर टगते देखा तो मैंने पूछा कि आई बेटा सगरो गुदाल हो रहलो ह दारु पीनी ह तो प्रह्लाद ने कहा कि नए माय हम दारु नई पीलीयो ह…। ‘उन्होंने मोहल्ले की ही एक महिला पर शराब बेचने का आरोप लगाते हुए उस पर डीएम-एसपी से सख्त कार्रवाई करने की मांग की। मुंद्रिका ने कहा कि शराब ने हम लोगों की जिंदगी तबाह कर दी।

परिजनों का कहना है कि जहरीली शराब पीने से ही मौत हुई है। इस इलाके में चुल्हाई शराब बनता है। अगर प्रशासन चाहे तो शराब क्या उसकी एक बूंद पानी मिलना तक मुमकिन नहीं होगा। उन्होंने कहा कि घर चलाने वाला अब इस दुनिया में नहीं रहा। अब उनकी जिंदगी कैसे गुजरेगी।

अभी छह लोगों की हालत गंभीर बताई जा रही है, जिसमें छोटी पहाड़ी निवासी राजू चौहान और उसके चचेरे भाई ऋषि चौहान के आंखों की रोशनी चली गई। परिवार ने बताया कि दोनों को इलाज के लिए विम्स ले गए, जहां से रेफर कर दिया गया। इसके बाद सोहसराय के बाईपास स्थित निजी क्लिनिक में दोनों भर्ती कराया गया।

इधर, अबतक पुलिस के छापेमारी में 750 एमएल की 5 बोतल विदेशी शराब, एक बोरा टेट्रापैक पैकेजिंग मटेरियल, चुलाई देसी शराब 4 लीटर, 250 एमएल का 25 पाउच देशी शराब, 200 एम एल का 22 पाउच एवं 400 एमएल का 4 पाउच देसी शराब, 750 एम एल की 87 बोतल शराब मिली।

बिहारशरीफ के भाजपा विधायक डॉ. सुनील कुमार ने छोटी पहाड़ी में हुई संदिग्ध मौत पर दुख प्रकट किया है। उन्होंने कहा कि किस परिस्थिति में इतने लोगों की मौत हुई जिला प्रशासन गहन जांच करे। जो भी इस मामले में दोषी है जिला प्रशासन गहन जांच कर अविलंब कार्रवाई करे। इस घटना की सूचना के बाद रविवार को अरवल के माले विधायक महानंद सिंह सदर अस्पताल पहुंचे। जन अधिकार पार्टी (जाप) के सुप्रीमो पप्पू यादव ने मृतकों के परिजनों से मुलाकात की।

महानंद सिंह ने कहा- ‘शराबबंदी के नाम पर सिर्फ महादलित लोगों को परेशान किया जाता है। बड़ी-बड़ी लग्जरी गाड़ियों में शराब की खेप पकड़ी जाती है। बावजूद सरकार बड़े शराब माफियाओं पर कार्रवाई नहीं कर छोटे लोगों को पकड़कर जेल भेजने का काम करती है। मैं सरकार से मांग करता हूं कि जितने थानेदार हैं, डीएसपी है, एसपी हैं, सभी की संपत्ति की जांच की जाए। सभी लोगों ने अवैध रूप से बालू और शराब से अकूत संपत्ति अर्जित की है।’

जाप प्रमुख पप्पू यादव ने कहा कि ‘जिला प्रशासन मृतकों का आंकड़ा छुपाने में जुटी है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के गृह क्षेत्र नालंदा के हरनौत में शराब मिल रही है। शराब की होम डिलीवरी हो रही है और सीएम साहब शराबबंदी का ढिढोरा पीट रहे हैं। आज आंकड़ा छुपाया जा रहा है। कल पोस्टमाॅर्टम रिपोर्ट बदल दिया जाएगा, ताकि किसी भी मृत व्यक्ति में जहरीली शराब पीने की पुष्टि न हो सके। आज छह लाख से अधिक बेकसूर लोग शराब मामले में जेल में बंद हैं।’ पप्पू यादव ने मृतक के परिजनों को 10-10 हजार रुपये की आर्थिक मदद की और 10-10 हजार सभी के बैंक अकाउंट में डालने की बात कही।

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें