बिहार विधानसभा भवन ने अपने स्थापना के पूरे किए सौ साल

बिहार विधानसभा भवन ने अपने स्थापना के पूरे किए सौ साल

Patna: बिहार विधानसभा भवन ने अपने स्थापना के सौ साल पूरे कर लिए है.

इस मौके को खास बनाने के लिए बिहार विधानसभा अध्यक्ष विजय सिन्हा ने लोकतंत्र में विधायकों की भूमिका नाम से एक कार्यक्रम का आयोजन किया है. इस कार्यक्रम का उद्घाटन बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार करेंगे.

आयोजन की पूर्व संध्या पर विधानसभा भवन को दुल्हन की तरह सजाया गया था.

सात फरवरी 1921 को पटना में लेजिस्लेटिव काउंसिल की पहली बैठक हुई थी. यह बैठक उसी भवन में हुई थी जिसे आज बिहार विधानसभा के नाम से जाना जाता है.

1919 में बिहार एवं उड़ीसा को स्वतंत्र राज्य का दर्जा मिला था और इसके पहले गवर्नर लॉर्ड सत्येन्द्र प्रसन्न सिन्हा बने थे. तब लेजिस्लेटिव काउंसिल में सदस्यों की संख्या 103 तय की गई थी जिसमें 76 निर्वाचित एवं 27 राज्यपाल द्वारा मनोनीत सदस्य थे.

मार्च, 1920 में लेजिस्लेटिव काउंसिल का भवन बनकर तैयार हुआ. इस भवन में काउंसिल की पहली बैठक सात फरवरी, 1921 को हुई, जिसे लार्ड सत्येन्द्र प्रसन्न सिन्हा ने गवर्नर के रूप में संबोधित करते हुए भवन का उद्घाटन किया था.

इस शताब्दी समारोह के दौरान कई विशिष्ट अतिथि कार्यक्रम में मौजूद रहेंगे.

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें