अवैध बालू खनन मामले में पुलिस मुख्यालय की सफाई, एक से 20 मई के दौरान 155 केस दर्ज

अवैध बालू खनन मामले में पुलिस मुख्यालय की सफाई, एक से 20 मई के दौरान 155 केस दर्ज

पटना: बिहार में अवैध बालू खनन में पुलिस कर्मियों की संलिप्तता की पोल खुलने के बाद बिहार पुलिस मुख्यालय ने शुक्रवार को सफाई दी है.

पुलिस मुख्यालय ने कहा है कि पटना, रोहतास, कैमूर, भोजपुर, औरंगाबाद एवं सारण के बालू घाटों पर अवैध उत्खनन, भंडारण एवं परिवहन के खिलाफ आवश्यक कार्रवाई की जा रही है. पुलिस मुख्यालय ने कहा है कि एक मई से लेकर 20 मई तक पटना के विभिन्न थानों, जिसमें रोहतास में सात, कैमूर में 44 भोजपुर में 16, औरंगाबाद में 34, पटना में 24 एवं सारण में 30 कांड यानी कुल 155 केस दर्ज किए गए हैं. इनमें 160 लोगों को गिरफ्तार किया गया है, जबकि 723 वाहनों को जब्त किया गया है. 290625 घन फीट अवैध बालू की बरामदगी हुई है.

पुलिस मुख्यालय ने बताया है कि कार्रवाई के क्रम में पटना जिला द्वारा 58 वाहनों से चार लाख से अधिक रूपये जुर्माना वसूल किया गया है. वहीं, कुल एक करोड़ 70 लाख 92 हजार रुपये जुर्माना वसूल किया गया है. पुलिस मुख्यालय ने कहा है कि बालू के अवैध कारोबार पर लगाम लगाने को लेकर जिला प्रशासन से समन्वय स्थापित कर विशेष छापेमारी दलों का गठन कर छापेमारी का आदेश दिया गया है.

उल्लेखनीय है कि खान एवं भूतत्व विभाग के प्रधान सचिव ने 17 मई को डीजीपी को पत्र लिखकर जानकारी दी थी कि बालू के अवैध खनन में स्थानीय थाना की मिलीभगत की बात सामने आ रही है. प्रधान सचिव ने वैसे पुलिस कर्मियों-अधिकारियों पर कार्रवाई करने का आग्रह किया था. प्रधान सचिव के पत्र के बाद बवाल मच गया. मीडिया में बालू माफियाओं से पुलिस की मिलीभगत से कमाई की खबर आई तो आर्थिक अपराध इकाई को नागवार गुजरी.

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें