चुनाव में गमछे की बढ़ी डिमांड, जैसा दल वैसे रंग का गमछा समर्थकों की करा रहा पहचान

चुनाव में गमछे की बढ़ी डिमांड, जैसा दल वैसे रंग का गमछा समर्थकों की करा रहा पहचान

Chhapra: बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर प्रत्याशियों की सक्रियता चरम पर है. पहले चरण के मतदान को लेकर जहाँ प्रत्याशी क्षेत्र में प्रचार प्रसार में जुटे है वही दूसरे चरण के प्रत्याशी नामांकन प्रक्रिया में, वही तीसरे चरण के प्रत्याशी नामांकन से लेकर प्रचार प्रसार तक के रणनीति बनाने में जुटे है. चुनाव में दल और निर्दल दोनों ही जनता को लुभाने में जुटे है.

पार्टी ने जहां अपने प्रत्याशियों को अपना सिंबल दिया है वही निर्दलीय भी खुद के सिंबल यानी पहचान के साथ चुनाव लड़ रहे है. हालांकि निर्दलीय को अंतिम रूप से चुनावी सिंबल निर्वाचन आयोग देगा जिसपर वह मतदाताओं से वोट डालने की अपील करेंगे. इसके बावजूद भी बिहारी अंदाज यानि गमछा दलीय और निर्दलीय दोनों की पहचान बना है. नामांकन के दौरान इस बिहारी पहचान की डिमांड खूब है. जैसा दल वैसा गमछा, नामांकन के दौरान गमछा समर्थकों की पहचान को भी बता रहा है.

दूसरे चरण के नामांकन को लेकर 2 दिन शेष है. लगभग सारण जिले की 10 सीटों पर मुख्य दलीय और निर्दलीय प्रत्याशियों ने अपना नामांकन कर दिया है. वही बचें प्रत्याशी बुधवार और गुरुवार को करने की प्रक्रिया में है.

विधानसभा चुनाव में हरा, केसरिया, लाल, पीला और सफ़ेद हरी पट्टी वाले गमछों की डिमांड खूब है. नामांकन में जाने से पहले ही सभी समर्थकों को गमछा देकर प्रत्याशी सम्मान कर रहे है. जिससे नामांकन रैली में यह समर्थकों की पहचान बन गया है. नामांकन में ही प्रत्याशी अपना दम खम दिखा रहे है.वाहनों की लंबी लंबी कतार और समर्थकों की भीड़ दोनों को दिखाने में यह गमछा कारगर साबित हो रहा है.

ऐसे में यह भीड़ वोट में कितना परिवर्तित होती है यह 10 नवम्बर को परिणाम आने के बाद पता चलेगा.

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें