Dec 11, 2017 - Mon
Chhapra, India
26°C
Wind 3 m/s, WSW
Humidity 57%
Pressure 758.31 mmHg

11 Dec 2017      

Home संपादकीय आपकी कलम से

                  युवा
ख़्वाब और हक़ीक़त का फांसला मिटाकर रहेगा युवा ।
बढ़ते रहा है और बढ़ता रहेगा युवा ।।
ना रुके बहती हवा,ना बहता पानी,ना  जज़्बा-ए-यौवन।
दुनिया जो भी हो तेरी रीत,तेरा चलन।।
उसेे तो पाना है वो मुकम्मल मंज़िल।
चाहें पार करने हो सैकड़ो नदी-समंदर-झील।।
ना लगाओ बेपरवाही का वो इलज़ाम।
बेपरवाहों के उल्टे-सीधे आगाज़, जाने कब पा लेते हैं अंज़ाम।।
आते हैं सामने अनेको अच्छे-बुरे मंज़र।
निडरता उसका सहारा,सामना करने का रखता वो ज़िगर।।
देश का आज वही है,वही है कल।
जोश-खरोश से कर डाले सारे समस्याओं का हल।।
क्या मुश्किल,जाने क्या आसान।
युवा तो मसल डाले बड़े-बड़े पाषाण।।
ज़मीं-आसमां का फांसला मिटाकर रहेगा युवा।
बढ़ते रहा है और बढ़ता रहेगा युवा।।
              
img-20161210-wa0018     
लेखक सन्नी कुमार सिन्हा
(आप भी हमें भेज सकते है अपने लेख, संस्मरण, कविता. अपने लेख आप हमें chhapratoday@gmail.com पर भेजे. ) 
(Visited 224 times, 1 visits today)

Comments are closed.

error: Content is protected !!