Oct 21, 2017 - Sat
Chhapra, India
30°C
Wind 3 m/s, SE
Humidity 65%
Pressure 758.93 mmHg

21 Oct 2017      

Home संपादकीय

अपने अटल इरादे और कुशल नेतृत्व से ‘संपूर्ण क्रांति’ का आगाज कर देश को नयी दिखा दिखाने वाले लोकनायक जय प्रकाश नारायण की आज 115वीं जयंती है.

जयप्रकाश नारायण के आहवान पर युवाओं के साथ साथ देश की जनता जागी और सत्ता पर आसीन सरकार को यह अहसास कराया की लोकतंत्र में जनता ही असली शासक होती है. लोक नायक ने बगैर किसी राजनितिक दल में शामिल हुए देश में नयी क्रांति का संचार किया, राजनीति को एक नयी दिशा दिखाई. 

उनके आदर्शों को आज के राजनेताओं को भी अपनाने की जरुरत है. अपने को जेपी का अनुयायी या यूँ कहे कि शिष्य कहने वाले आज सत्ता पर तो जरूर आसीन है पर उनके विचारों को आत्मसात करने की जगह से शायद भटक चुके है. सत्ता पर आसीन लोग अपनी राजनीति को चमकाने के लिए जेपी का नाम तो जरूर लेते है पर उनके आदर्शों को भूल गए है. ऐसे में जरुरत है कि हम और आप मिलकर जयप्रकाश के सपने के भारत को साकार करने की दिशा में पहल करें.

जीवन परिचय
जयप्रकाश नारायण का जन्म 11 अक्तूबर, 1902 ई. को सारण जिले के सिताबदियारा में हुआ था. उनके पिता का नाम ‘देवकी बाबू’ और माता का नाम ‘फूलरानी देवी’ था. 1920 में जयप्रकाश का विवाह प्रभावती देवी से हुआ. पटना मे अपने विद्यार्थी जीवन में जयप्रकाश नारायण ने स्वतंत्रता संग्राम मे हिस्सा लिया. उन्हें 1970 में इंदिरा गांधी के विरुद्ध विपक्ष का नेतृत्व करने के लिए जाना जाता है. इन्दिरा गांधी को पदच्युत करने के लिये उन्होने ‘सम्पूर्ण क्रांति’ नामक आन्दोलन चलाया. वे समाज-सेवक थे, जिन्हें ‘लोकनायक’ के नाम से भी जाना जाता है. 1998 में उन्हें मरणोपरान्त भारत रत्न से सम्मानित किया गया.

(Visited 23 times, 1 visits today)

Comments are closed.

error: Content is protected !!