Oct 21, 2017 - Sat
Chhapra, India
30°C
Wind 3 m/s, SE
Humidity 65%
Pressure 758.93 mmHg

21 Oct 2017      

Home आपका शहर

Chhapra: सारण पुलिस ने हनी ट्रैप में फंसा अपहरण और फिरौती मांगने के एक मामले का उद्भेदन किया है. पुलिस ने अपहृत को सकुशल बरामद कर एक महिला समेत 2 अपहरणकर्ताओं को गिरफ्तार कर लिया है.

सारण के पुलिस अधीक्षक हरकिशोर राय ने प्रेस वार्ता कर बताया कि 6 अक्टूबर को गड़खा बाजार के खाद बीज व्यवसायी राकेश कुमार का अपहरण उस समय कर लिया गया था जब वे बीज खरीदने हाजीपुर जा रहे थे. जिसके बाद पुलिस टीम का गठन कर उनकी खोजबीन की जा रही थी.

उन्होंने बताया कि हनी ट्रैप में शामिल महिला के द्वारा अपहृत को फोन कर के बुलाया गया था. जिसके बाद इसे बंधक बना लिया गया और 2 लाख की फिरौती की मांग की गयी. इस पूरे षड्यंत्र में महिला का पति भी शामिल है. पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया है.

उन्होंने बताया की अपहरणकर्ता के सोनपुर के शिववचन चौक पर होने की सूचना पुलिस की सर्विलांस टीम को मिली जिसके बाद कार्रवाई करते हुए उसे पकड़ा गया. उसके निशानदेही पर हाजीपुर के टाउन थाना क्षेत्र से अपहृत को बरामद किया गया साथ ही हनी ट्रैप करने वाली महिला को भी गिरफ्तार किया गया. उन्होंने बताया कि मोबाइल कॉल डिटेल्स और टावर लोकेशन के आधार पर वैशाली जिले के जुड़ावनपुर थाना क्षेत्र के राघोपुर गांव निवासी गंगा साह के पुत्र राजू कुमार उर्फ राकेश उर्फ मुन्ना तथा उसकी पत्नी रंभा देवी को गिरफ्तार किया गया है. उनके पास से एक लोडेड कट्टा और कारतूस, मोबाइल फोन बरामद किये गए है. 

अपहरणकर्ताओं के चंगुल से मुक्त हुए राकेश कुमार ने बताया कि तथाकथित साली ने मुझे कॉल करके मिलने के लिए हाजीपुर बुलाया और अपने पति के साथ मिल कर मुझे बंधक बना लिया और मेरे घर फोन करके 2 लाख रुपये की मांग करने लगे. हम गरीब ब्यक्ति दो लाख रुपये कहा से लाते, तब मेरे घर वाले स्थानीय गड़खा थाने में इसकी लिखित सूचना दिए तब जाकर पुलिस सक्रिय हुई और मुझे सकुशल वापसी लाई है.

वही इस मामले में तथाकथित साली रंभा देवी ने बताया कि मेरे पास वे बराबर आते थे और उनके द्वारा जो आरोप लगाया जा रहा है वह गलत है. मैंने कभी भी पैसे की मांग नही की है.

विशेष टास्क फोर्स में सदर एसडीपीओ अजय कुमार सिंह, सोनपुर थानाध्यक्ष सह पुलिस निरीक्षक रवि कुमार, गड़खा थानाध्यक्ष रमेश कुमार महतो, पहलेजा ओपी अरविंद कुमार, तकनीकी सेल के रामइकबाल प्रसाद आदि शामिल थे.

(Visited 1,007 times, 1 visits today)

Comments are closed.

error: Content is protected !!